जागरण संवाददाता, चंडीगढ़ : नगर निगम की सदन की मंगलवार को होने वाली सदन की बैठक में यूनिपोल साइट्स का मामला गरमाने जा रहा है। ई बोली करवाने के बावजूद जो रेट आए हैं, उसकी मंजूरी के लिए प्रस्ताव सदन की बैठक में आ रहे हैं। नगर निगम ने शहर के 24 यूनिपोल साइट्स के लिए ई-नीलामी करवाई है। पहले ही अधिकारियों ने जो रिजर्व प्राइस तय किया था, वह पंचकूला और मोहाली के मुकाबले में कम की गई। तय किए गए रेट को लेकर कांग्रेस ने पहले ही सवाल खड़ा किया था। कांग्रेस का कहना है कि यह एक घपला है। नगर निगम की टेक्निकल कमेटी ने सबसे ज्यादा बिड देने वाले को टेंडर अलॉट नहीं किया है। इसलिए मंजूरी के लिए यह प्रस्ताव कमिश्नर ने सदन में भेजा है। इस प्रकार तय किए गए हैं रेट

इस 24 यूनिपोल साइट्स को दो अलग-अलग जोन में बांटकर रिजर्व प्राइस तय किया गया था जिसके लिए जो बोली आई है, वह तय रेट के मुकाबले 20 से 30 हजार रुपये बढ़कर ही आई है। प्रति जोन में 12-12 पोल शामिल हैं। ग्रुप ए का रिजर्व प्राइस दो लाख 20 हजार तय किया गया था, इसके लिए अधिकतर बोली दो लाख 43 हजार रुपये आई है। जबकि ग्रुप बी का रिजर्व प्राइस दो लाख 20 हजार तय था जिसकी सबसे बड़ी बोली दो लाख 38 हजार रुपये आई है। मालूम हो कि चंडीगढ़ प्रशासन पहली बार नगर निगम को यूनिपोल साइट्स की मंजूरी दी थी, जिसमें कंपनियां विज्ञापन करेंगी। नगर निगम ने जो साइट्स तय की हैं, उनमें एलांते माल के बाहर की भी एक साइट शामिल है। कैंथ बोले : मामले को जोरशोर से उठाएंगे

कांग्रेस पार्षद सतीश कैंथ ने बताया कि पहले ही पंचकूला और मोहाली के मुकाबले में चंडीगढ़ की यूनिपोल साइट के रेट कम तय किए। अब भी जो बोली में रेट आए हैं वह ज्यादा नहीं। यह सीधे तौर पर किसी न किसी को फेवर किया जा रहा है। इस मामले को वह मंगलवार को होने वाली सदन की बैठक में जोरशोर से उठाएंगे। चंडीगढ़ में यूनिपोल साइट का रिजर्व प्राइस 154 से 194 रुपये प्रति स्क्वेयर फीट तय किया गया जबकि पंचकूला और मोहाली में यह रेट 320 रुपये प्रति स्क्वेयर फीट से ज्यादा हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!