जेएनएन, चंडीगढ़। गुरुनानक देवजी के 550वें प्रकाश पर्व पर केंद्र सरकार ने सिख संगत को बड़ा तोहफा दिया है। केंद्र द्वारा गुरदासपुर स्थित डेरा बाबा नानक से लेकर अंतरराष्ट्रीय सीमा तक करतारपुर कॉरिडोर बनाने के फैसले पर सिख संगत ने खुशी जताई है। प्रोजेक्ट पर सारी राशि केंद्र सरकार खर्च करेगी। इस कॉरिडोर को लेकर अक्सर पंजाब में राजनीति गरमाती रही है। इस बीच, मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने ट्वीट कर बताया कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह 26 नवंबर को डेरा बाबा नानक के लिए गुरदासपुर में करतारपुर कॉरीडोर की आधारशिला रखेंगे।

कुछ माह पूर्व नवजोत सिद्धू इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने के लिए पाकिस्तान गए थे। इस दौरान उनकी यह यात्रा विवादों में आ गई थी। दरअसल, सिद्धू ने इस दौरान वहां के सेना प्रमुख को गले लगा दिया था। इसके बाद सिद्धू विरोधियों के निशाने पर आए तो सिद्धू ने सफाई दी थी कि सेना प्रमुख ने कॉरिडोर खोलने की बात कही तो वह गले लग गए।

पाकिस्तान सेना प्रमुख के गले मिलते सिद्धू। (फाइल फोटो)

इसके बाद कॉरिडोर को लेकर सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को पत्र लिखकर मामले को पाकिस्तान के समक्ष उठाने की मांग की थी। अब केंद्र सरकार ने कॉरिडोर बनाने का फैसला लेकर सिख संगत को बड़ा तोहफा दिया है।

पाकिस्‍तानी सेना ने ध्वस्त कर दिया था करतारपुर को जोड़ने वाला पुल

पा‍किस्‍तान की सेना ने ही कभी वहां जाने के लिए बने पुल को तबाह कर दिया था। पाकिस्तान के नारोवाल स्थित श्री करतारपुर साहिब और भारत के गुरदासपुर स्थित डेरा बाबा नानक को जोड़ने के लिए विभाजन से पहले रावी पर बना यह पुल अहम जरिया था। करतारपुर साहिब जाने वाले श्रद्धालु इसी पुल से रावी पार किया करते थे।

दूरबीन से पाकिस्तान स्थित डेरा बाबा नानक के दर्शन करते सिद्धू। (फाइल फोटो)

इसी पुल से रावी पार कर करतारपुर साहिब के दर्शन करने जाते थे सिख श्रद्धालु

1971 के भारत-पाक युद्ध के दौरान पाकिस्तानी सेना ने सामरिक महत्व वाले इस पुल को ध्वस्त कर दिया। 5 दिसंबर 1971 को सेना को डीबीएन (डेरा बाबा नानक) ब्रिज पर कब्जा करने का आदेश मिला, ताकि इसे दुश्मन के पर हमला करने के लिए इस्तेमाल किया जा सके। इस मिशन को 'ऑपरेशन अकाल' नाम दिया गया। 10-डोगरा, 17 राजपूत व 1/9 गोरखा राइफल्स, 71 आर्म्ड रेजिमेंट, गोरखा राइफल्स की 4/8 कंपनी और 42 फील्ड रेजिमेंट ने ऑपरेशन को अंजाम दिया और अगले दिन पुल पर कब्जा कर दिया। बाद में पाकिस्तान ने इसे नष्ट कर दिया।

दूरबीन से पाकिस्तान स्थित डेरा बाबा नानक के दर्शन करता श्रद्धालु। (फाइल फोटो)

यह है श्री करतापुर साहिब गुरुद्वारे का महत्‍व

 श्री करतापुर साहिब गुरुद्वारे को पहला गुरुद्वारा माना जाता है जिसकी नींव श्री गुरु नानक देव जी ने रखी थी। उन्होंने यहां से लंगर प्रथा की शुरुआत की थी। यह स्थल पाकिस्तान में भारतीय सीमा से करीब चार किलोमीटर दूर है और अभी पंजाब के गुरदासपुर में डेरा बाबा नानक बॉर्डर आउटपोस्ट से दूरबीन से भारतीय श्रद्धालु इस गुरुद्वारे का दर्शन करते हैैं। श्री गुरुनानक देव जी का 550 वां प्रकाश पर्व 2019 में वहां मनाया जाना है और इस अवसर पर सिख समुदाय इस कॉरिडोर को खोलने की मांग जोर शोर से कर रहा है।

गुरु नानक देव ने करतारपुर में गुजारे 15 साल, यहीं ली अंतिम सांस

सिखों के पहले गुरु श्री नानक देव जी ने अपने जीवन के अंतिम 15 साल करतारपुर की धरती पर ही गुजारे थे। यहां खुद खेती करके उन्होंने समाज को 'किरत करो, वंड छको और नाम जपो' का संदेश दिया था। यहीं उन्होंने अपना शरीर भी छोड़ा था। यह गुरुद्वारा पटियाला स्टेट के महाराजा भूपेंद्र सिंह ने 1947 में बनवाया था। अभी यह गुरुद्वारा निर्माणाधीन ही था कि भारत पाक विभाजन हो गया।

चार किमी दूर जाने को  करना पड़ता है 150 किमी का सफर

कस्बा बाबा बकाला के गांव पक्खोके टैली साहिब से सरहद के उस पार करीब चार किलोमीटर दूर स्थित श्री करतारपुर साहिब गुरुद्वारा के दर्शन के लिए लोगों को अटारी से होकर 150 किलोमीटर से भी ज्यादा का सफर करना पड़ता है। विभाजन से पहले यह सब बहुत आसान था। डेरा-बाबा नानक के गांववासी साहिब सुबह चार बजे उठकर गुरुद्वारा साहिब के दर्शन करने जाते थे। तब वहां पर माहौल एकदम शांत था। डेरा बाबा नानक के कुछ बुजर्ग बताते हैं कि विभाजनके बाद सरहद पर बाड़ लगा दी गई। अब बीएसएफ दूरबीन से संगत को गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब के दर्शन करवाती है।

हर साल करीब 60 हजार संगत पहुंचकर दूरबीन से गुरुद्वारा करतारपुर साहिब के दर्शन करती है। सरहद के पास स्थित गांव के बुजुर्गों का कहना है कि अगर सरकार श्री करतारपुर साहिब गुरुद्वारा कॉरिडोर खेल दे तो उनकी जिंदगी के आखिरी पलों में बड़ी तमन्ना पूरी हो जाएगी। कस्बा बाबा-बकाला से ठीक 2 किलोमीटर दूर सरहद पर पास बैठे बुजुर्ग एक सुनहरे सपने की उम्मीद में कहते हैं,‘दो देशों के बीच डाली गई लकीर को हटा दिया जाए, तो आपसी मनमुटाव दूर हो जाएगा। दोनों देशों के लोगों में प्यार बढ़ेगा। विभाजन से पहले श्री करतारपुर साहिब भारत का ही हिस्सा था।

बेबे संग जाती थी

गांव शिकार माछीया की दलजीत कौर कहती हैं, ‘हमारे गांव से गुरुद्वारा साहिब आठ किलोमीटर दूरी पर स्थित है। विभाजन से पहले जब मैं 7 वर्ष की थी तो सुबह चार बजे उठकर अपनी बेबे के साथ गुरुद्वारा साहिब जाती थी। संगत के साथ सेवा करती थी। विभाजन के बाद कई सरकारों ने करतारपुर लांघा खोलने का भरोसा दिया, लेकिन कोई सरकार इसे खोलने में कामयाब साबित नहीं हुई। सरकार ने करतारपुर साहिब मार्ग खोलने का भरोसा दिया, इससे बरसों पुरानी उम्मीद फिर जगी है।’

रोज सेवा करने जाता था, अब दूरबीन से करता हूं दर्शन


वीरातेजा निवासी 80 वर्षीय हरजिंदर सिंह कहते हैं, ‘विभाजन से पहले हम काफी छोटे हुआ करते थे, तब हर रोज पिता के साथ श्री करतारपुर साहिब में स्थित गुरुद्वारा में सेवा करने के लिए जाते थे। उन्हें सेवा करने में पूरी लगन थी, जिस कारण उन्हें वहां के पाठी व जत्थेदार खासा प्यार करते। देशों का विभाजन हो गया। मन को बहुत ठेस पहुंची। अब दूरबीन के जरिए हर रोज सरहद से गुरुद्वारा साहिब के दर्शन करता हूं।’

18 वर्ष तक बॉर्डर पर की थी 208 बार अरदास

शिरोमणि अकाली दल के वरिष्ठ नेता जत्थेदार कुलदीप सिंह वडाला का कहना है कि बात वर्ष 2001 की है। विभाजन के बाद गुरु घरों के बिछुड़ने का दर्द रह-रह कर संगत को सताता रहता था। वडाला ने न सिर्फ इसे महसूस किया, बल्कि इसके लिए ‘गुरुद्वारा करतारपुर साहिब रावी दर्शन अभिलाषी’ संस्था का गठन करके मुहिम भी शुरू की। इस मुहिम के तहत उन्होंने लगातार 18 वर्षों तक हर माह अमावस्या पर (लगभग 208 बार) डेरा बाबा नानक जाकर इसके लिए अरदास की। उनके निधन के बाद अब इस पंरपरा को उनके बेटे विधायक गुरप्रताप सिंह वडाला निभा रहे हैं।

करतारपुर साहिब: कब क्या हुआ

  • 1522 : श्री गुरु नानक देव जी ने गुरुद्वारे की स्थापना की और एक किसान की तरह जिंदगी बिताने का निर्णय किया।
  • 1539: श्री गुरु नानक देव जी ने देह का त्याग कर गुरु अंगद देव को उत्तराधिकारी बनाया।
  • 1947: विभाजन के दौरान गुरदासपुर जिला भी दो हिस्सों में बंट गया और गरुद्वारा करतारपुर साहिब पाकिस्तान चला गया।
  • 1971: पाकिस्तान के नारोवाल और भारत के गुरदासपुर को जोडऩे वाला रावी नदी पर बना पुल भारत-पाक युद्ध में तबाह हो गया।
  • 1995: पाकिस्तान सरकार ने गुरुद्वारे की मरम्मत करवाई।
  • 2000: पाकिस्तान ने करतारपुर के वीजा फ्री यात्रा की घोषणा की।
  • 2001: पाकिस्तान ने विभाजन के बाद पहली बार भारतीय जत्थे को करतारपुर साहिब जाने की अनुमति दी।
  • 2002: अप्रैल में जत्थेदार कुलदीप सिंह वडाला और करतारपुर रावी दर्शन अभिलाषी संस्था ने तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को पत्र लिख कर पाकिस्तान के प्रस्ताव को आगे बढ़ाने की मांग की।
  • 2004: पाकिस्तान सरकार ने गुरुद्वारे का पूरी तरह कायाकल्प किया।
  • 2008: तत्कालीन विदेश मंत्री प्रणब मुखर्जी ने डेरा बाबा नानक का दौरा किया और फिजिबिलिटी रिपोर्ट बनाने की बात कही।
  • 2008: एसजीपीसी ने तत्कालीन पीएम मनमोहन सिंह व विदेश मंत्री एसएम कृष्णा को पत्र लिख कॉरिडोर के निर्माण की मांग की।
  • 2018: 17 अगस्त को सिद्धू पाकिस्तान के नए पीएम इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए और पाक सेना प्रमुख को जफ्फी डाली। विवाद पर सिद्धू ने बताया कि पाक सेना प्रमुख ने उन्हें करतारपुर मार्ग खोलने का भरोसा दिया है।
  • 2018: 22 अगस्त को कैप्टन अमरिंदर सिंह ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को पत्र लिख यह मामला पाकिस्तान से उठाने को कहा।
  • 2018: 7 सितंबर को पाकिस्तान के सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने कॉरिडोर खोलने का एेलान किया। बाद में पाकिस्तान ने इसको नकारा।
  • 2018: 9 नवंबर कैप्टन अमरिंदर सिंह ने एक बार फिर सुषमा स्वराज को पत्र लिखकर यह मामला पाकिस्तान से उठाने की मांग की।
  • 22 दिसंबर 2018: केंद्रीय कैबिनेट ने गुरु नानक देवजी के 550वें प्रकाशोत्सव वर्ष पर डेरा बाबा नानक से लेकर अंतरराष्ट्रीय सीमा तक करतारपुर कॉरिडोर बनाने का फैसला लिया।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!