चंडीगढ़, [राजेश ढल्ल]। एक अप्रैल से शहर में कई अहम बदलाव होंगे। जिसका प्रभाव शहरवासियों पर पड़ेगा। जिसमें जहां लोगों को राहत मिलेगी, वहीं, लोगों की जेब पर भी बोझ बढ़ेगा। जिससे महंगाई भी बढ़ जाएगी। जबकि एक अप्रैल से नया वित्तीय सत्र भी शुरू हो जाएगा। प्रशासन और नगर निगम के अधिकारी नए प्लान के अनुसार काम करेंगे। प्रशासन और नगर निगम को केंद्र सरकार की ओर से नए बजट के तहत ग्रांट इन एड मिल जाएगी। जबकि हाउस और प्रॉपर्टी टैक्स जमा करवाने वालों के लिए सेल्फ असेसमेंट स्कीम भी एक अप्रैल से दो माह के लिए शुरू हो जाएगी जिसके तहत खुद टैक्स जमा करवाने वालों को 10 से 20 प्रतिशत की छूट भी मिलेगी। अप्रैल माह शुरू होने में 15 दिन बचे हैं।

एक अप्रैल से ऐसा क्या क्या होगा जो आपके लिए जानना है जरूरी

हर व्यक्ति को देना होगा सेस

एक अप्रैल से हर शहरवासी पर काऊ सेस थोप दिया जाएगा जिसकी प्रशासन ने अधिसूचना जारी कर दी है। नोटिफिकेशन के अनुसार नए वाहनों से सेस रीजनल लाइसेंस अथॉरिटी, बिजली से सुपरिंटेंडेट इंजीनियर (बिजली), शराब और बीयर से आबकारी एवं कराधान विभाग इकट्ठा करके नगर निगम को देगा। ऐसे में अब एक अप्रैल से खरीदी जाने वाली हर नई कार पर 500 रुपये और दोपहिया वाहन पर 200 रुपये गोसेस चार्ज किया जाएगा। जबकि बीयर और देसी शराब पर पांच रुपये और अंग्रेजी व्हिस्की पर दस रुपये प्रति बोतल काऊ सेस लगाया जाएगा। बिजली की हर यूनिट पर भी दो पैसे गोसेस चार्ज किया जाएगा। सेस चार्ज करने से नगर निगम को 20 करोड़ रुपये की सालाना कमाई होने की उम्मीद है। सेस होने वाली कमाई की राशि लावारिस गायों से निजात दिलवाने पर खर्च की जाएगी।

आपके घर और दुकान के टैक्स के रेट बढ़ जाएंगे

एक अप्रैल से हाउस और प्रॉपर्टी टैक्स का रेट बढ़ जाएगा। शहर में 26 हजार कॉमर्शियल और 80 हजार रेजिडेंशियल इमारतें हैं जिनका हर साल टैक्स नगर निगम को आता है। ऐसे में बढ़े हुए रेट का फैसला भी इन इमारतों के मालिक पर लागू हो जाएगा। नगर निगम ने पूरे शहर की कॉमर्शियल इमारतों को जोन ए, बी, सी और डी में बांटा हुआ है। जबकि रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी को तीन जोन में बांटा हुआ है। हर जोन के अलग अलग रेट हैं। बढ़े हुए रेट के लागू होने से नगर निगम की हर साल छह से आठ करोड़ रुपये की कमाई बढ़ जाएगी।

शराब 15 प्रतिशत हो जाएगी महंगी

प्रशासन ने नए सिरे से शराब के ठेकों की नीलामी की है। एक अप्रैल से शराब के रेटों में भी इजाफा हो जाएगा। हर शराब की बोतल का रेट 15 प्रतिशत बढ़ जाएगा। शहर में शराब की खपत काफी ज्यादा है। इसके साथ ही एक अप्रैल से आरआइएफटी वाले ऑटो चलने शुरू हो जाएंगे।

एसडीओ होंगे नगर निगम से बाहर

इस समय इंजीनियरिंग विंग के एसडीओ स्तर के अफसरों ने नगर निगम में कार्यालय बनाकर कब्जा किया हुआ है जबकि नियमों के अनुसार उन्हें फील्ड में ही अपना कार्यालय बनाना होता है। ऐसे में कमिश्नर केके यादव ने यह आदेश जारी किए हैं कि एक अप्रैल से सभी एसडीओ को नगर निगम के कमरे छोड़ने होंगे। इस समय छठी मंजिल में एसडीओ ने अपने कार्यालय बनाए हुए हैं।

शिवालिक व्यू होटल में मिड-डे मील बनना होगा बंद

जो इस समय शिवालिक व्यू होटल में स्कूली और आंगनबाड़ी के बच्चों के लिए मिड-डे मील तैयार होता है, वह एक अप्रैल से यहां पर बनना बंद हो जाएगा। अब यह दूसरी जगह पर बना करेगा।

सेग्रीगेशन न करने वालों के खिलाफ सख्त अभियान

नगर निगम ने सूखे और गीले कचरे का सेग्रीगेशन अनिवार्य किया हुआ है। एक अप्रैल से नगर निगम की ओर से ऐसा न करने वालों के खिलाफ अभियान छेड़ा जाएगा। नगर निगम के अनुसार ऐसा न करने वाले डोर-टू-डोर गारबेज कलेक्टर्स और रेजिडेंट्स के चालान काटे जाएंगे।

पार्षदों को मिलेगा फंड

एक अप्रैल से वार्ड पार्षदों को नई ग्रांट में से वार्ड डेवलपमेंट फंड मिलेगा जिससे वह अपने वार्ड में काम करवा पाएंगे। हर पार्षद को अपने एरिया का काम करवाने के लिए 80 लाख रुपये का फंड मिलेगा। जबकि मेयर को दो करोड़ रुपये का फंड का मिलेगा।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!