संवाद सहयोगी, कुराली : स्थानीय निहोलका मार्ग पर स्थित श्मशान भूमि को जाते कच्चे रास्ता पिछले कई वर्षों से शहरवासियों सिरदर्द बना हुआ है। लोगों की वर्षो पुरानी मांग को गंभीरता से लेते हुए नगर काउंसिल ने म्युनिसिपल एक्ट 1911 की धारा 58 के तहत श्मशान भूमि की ओर जाते मार्ग की जमीन को एक्वायर कर उसे चौड़ा करने के प्रस्ताव पारित किया है।

गौरतलब है कि निहोलका मार्ग पर स्थित श्मशान भूमि में पिछले लगभग 60-70 वर्षों से अंतिम संस्कार किया जा रहा है। वर्ष 1995 में लोगों ने श्मशान भूमि के मार्ग पर प्रवेश द्वार का निर्माण किया था। कई वर्षों से उक्त रास्ता खस्ता हाल है जिससे यहां से गुजरने वाले लोगों को बेहद मुश्किलों का सामना करना पड़ता था। लोगों ने कई बार नगर काउंसिल से रास्ते को पक्का करने की मांग की लेकिन मामला अधर में ही लटका रहा।

जमीन मालिकों दिया जाएगा मुआवजा

बीते दिनों हुई काउंसिल की मंथली हाउस मीटिग के एजेंडे में श्मशान भूमि को जाते मार्ग की जगह को एक्वायर करने के प्रस्ताव को पेश किया गया, जिसे काउंसिल के कार्यकारी अधिकारी विरेंदर जैन सहित सभी पार्षदों ने सर्वसम्मति से पारित किया था। विरेंदर जैन ने बताया कि काउंसिल द्वारा श्मशान भूमि को जाते मार्ग को 30 फीट चौड़ा तथा 460 फीट लंबाई में पक्का किया जाएगा और रास्ते के दोनों ओर बाउंड्री वाल का बनाई जाएगी। इस प्रोजेक्ट के लिए कुल 1533 वर्ग गज जमीन को एक्वायर किया जाएगा और जमीन मालिकों को सरकार द्वारा बनते मुआवजे की राशि अदा की जाएगी। विभिन्न संस्थाओं ने काउंसिल का जताया आभार

-निहोलका मार्ग श्मशान भूमि प्रबंधन कमेटी के अध्यक्ष राणा हरमेश कुमार ने श्मशान भूमि के रास्ते की समस्या का समाधान करने के लिए गए निर्णय का स्वागत करते हुए काउंसिल के कार्यकारी अधिकारी विरेंदर जैन का आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा कि इस योजना पर जल्द अमल हो।

-ब्राहमण सभा कुराली के अध्यक्ष सुनील कुमार शेशा एवं मेंबर चंदर शेखर का कहना था कि श्मशान भूमि के रास्ते की वजह से पिछले कई वर्षों से शहरवासियों को बेहद मुश्किलों का सामना करने को विवश होना पड़ रहा है। काउंसिल रास्ते की जगह को चौड़ा एवं पक्का करने के लिए फैसले का ब्राह्मण सभा खुशी जताई और इस प्रोजेक्ट को जल्द शुरू करने की अपील की।

-अग्रवाल सभा कुराली के प्रधान राकेश अग्रवाल एवं मेंबर जोगिदर अग्रवाल के अनुसार श्मशान भूमि के बदहाल रास्ते के कारण अकसर श्मशान भूमि में संस्कार करने आने वाले लोगों को नमोशी का सामना करना पड़ता है। मृतक की बॉडी को कंधा देने वाले चार लोग बदहाल रास्ते की वजह से कई बार असंतुलित हो जाते हैं क्योंकि मेन रोड से प्रवेश द्वार की ओर जाता मार्ग सड़क के लेवल से लगभग डेढ़ फीट नीचा है, जिसकी वजह से फ्यूनरल वैन को सड़क पर ही पार्क कर बॉडी को श्मशान भूमि तक ले जाना पड़ता है। उन्होंने लोगों की इस भीषण समस्या का समाधान करवाने के लिए अग्रसर काउंसिल अधिकारियों का अग्रवाल सभा की ओर से आभार जताया।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!