जेएनएन, अमृतसर। कुछ दिन पहले तक पार्टी छोड़ चुके टकसाली नेताओं को जाली टकसाली (पुराने नेता) कहने वाले शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल अब बैकफुट पर आ गए हैं। शनिवार को शिअद के प्रदेश प्रवक्ता विरसा सिंह वल्टोहा के घर प्रेस कांफ्रेंस में सुखबीर ने कहा कि इतिहास गवाह है कि जो लोग अकाली दल छोड़ कर गए, वे कभी सफल नहीं हो सके।

उन्होंने साथ ही यह भी कहा कि पार्टी छोड़ चुके जो टकसाली नेता शिअद में वापस आना चाहते हैं, उनका स्वागत है। इससे पहले उन्होंने विरसा सिंह वल्टोहा व सीनियर अकाली नेता वीर सिंह लोपोके के साथ बैठक कर पंजाब की राजनीति पर मंथन किया और पार्टी कार्यकर्ताओं को पार्टी को मजबूत बनाने का आह्वान किया।

जब जेल मंत्री ही सही नहीं तो जेलें कैसे होंगी सुरक्षित 

सुखबीर ने तीन कैदियों के अमृतसर जेल से फरार होने के मामले को गंभीर बताया और कैप्टन सरकार पर निशाना साधा। कहा कि जब जेल मंत्री ही सही नहीं तो जेलें कैसे सुरक्षित हो सकती हैं। उन्होंने कहा कि बिना मिलीभगत के अपराधी जेल से फरार नहीं हो सकते।

दिल्ली में भी कैप्टन ने किया झूठा वादा

सुखबीर ने कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह का मकसद मुख्यमंत्री बनना था, जिसमें वह झूठ बोल कर सफल रहे। कैप्टन ने दिल्ली चुनाव प्रचार के दौरान भी विकास और युवाओं को नौकरी का झूठा वादों पर उलझाने की कोशिश की। जबकि हकीकत यह है कि वह पंजाब में इन वादों को अभी तक पूरा नहीं कर पाए। उन्होंने कहा कि दिल्ली में अच्छी और मजबूत सरकार के लिए 60 से 70 फीसदी मतदान होना चाहिए।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!