जागरण संवाददाता, चंडीगढ़ : पंजाब यूनिवर्सिटी स्थित मार्केट के दुकानदारों ने पीयू प्रशासन की मनमानी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। पीयू स्टूडेंट सेंटर के दुकानदार नीरज आहूजा ने अधिकारियों की मनमानी से तंग आकर आत्महत्या करने के बाद पीयू के सभी दुकानदार एकजुट हो गए हैं। दुकानदारों का आरोप है कि पीयू के कुछ आला अधिकारी अलग-अलग तरह के नोटिस भेज उन्हें लगातार तंग कर रहे हैं। दुकानदारों से कोरोना काल में भी रेंट मांगा जा रहा है, जबकि कैंपस में स्टूडेंटस नहीं होने के कारण उनका कारोबार दो साल से पूरी तरह ठप पड़ा है। दुकानदारों ने पीयू प्रशासन से रेंट में पचास फीसद छूट सहित, बिजली मीटर की अलग से सिक्योरिटी देने सहित कई आदेशों के खिलाफ आवाज उठानी शुरू कर दी है। शनिवार को पीयू कैंपस मार्केट में 70 दुकानों को विरोध में दिनभर बंद करने का फैसला लिया गया। सभी दुकानदारों ने मार्केट के बीच ही टेंट लगाकर पीयू प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। दुकानदारों का आरोप है कि पीयू प्रशासन दुकानदारों को तंग करने के लिए 18 वर्ष पुराने प्रॉपर्टी टैक्स के लाखों रुपये भरने के नोटिस भेज रहा है। उधर, कुछ दुकानदारों ने पीयू प्रशासन की ओर से रेंट में बढ़ोतरी को पूरी तरह से उनकी रोजीरोटी को खत्म करने का जिम्मेदार ठहराया है। पीयू प्रवक्ता का कहना है कि दुकानदारों को आनलाइन बातचीत के लिए बुलाया गया, लेकिन वह इसमें शामिल नहीं हुए। दुकानदारों की मांगों पर प्रशासन कार्रवाई कर रहा है। मांगें पूरी होने तक बंद रहेगी मार्केट

पीयू दुकानदारों ने स्पष्ट कर दिया है कि जब तक पीयू प्रशासन उनकी सभी मांगों पर कार्रवाई नहीं करता, तब तक पीयू मार्केट में कोई भी दुकान नहीं खुलेगी। पीयू मार्केट ट्रेडर एसोसिएशन ने मंगलवार तक दुकानों को बंद करने का फैसला लिया है। दुकानदारों का कहना है कि अब दुकानें तभी खुलेंगी जब पीयू लिखित में उन्हें आश्वासन देगा। पीयू मार्केट बंद होने से कैंपस में रहने वाले सैकड़ों पीयू कर्मचारियों और प्रोफेसर्स को रोजमर्रा का सामान लेने में काफी दिक्कत होगी।

आनलाइन मीटिग को तैयार नहीं दुकानदार

पीयू प्रशासन ने शनिवार शाम करीब चार बजे मार्केट एसोसिएशन के पदाधिकारियों के साथ आनलाइन मीटिग करने का प्रस्ताव रखा, लेकिन दुकानदारों ने स्पष्ट कर दिया कि वह अधिकारियों के साथ आमने-सामने बैठकर ही मुद्दे पर बातचीत करेंगे। दोनों के बीच सहमति की पहली कोशिश शनिवार को सिरे नहीं चढ़ सकी। देर शाम पीयू कैंपस में सभी दुकानदारों ने पीयू अधिकारियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और गेट नबंर दो के सामने कैंडल मार्च भी निकाला।

कोट्स ..

दुकानदारों की मांगों को लेकर कोई फैसला नहीं हुआ है। पीयू अथॉरिटी के साथ दुकानदार फिजिकल मोड में बातचीत करना चाहते हैं। जब तक हमारी मांगों पर सकारात्मक कार्रवाई नहीं होगी तब तक पीयू मार्केट पूरी तरह से बंद रहेगी।

-विनोद कुमार, प्रेसिडेंट पंजाब यूनिवर्सिटी ट्रेडर्स एसोसिएशन पीयू ------रिपोर्ट -सुमित श्योराण

Edited By: Jagran