चंडीगढ़, जेएनएन। पंजाब के सात युवक इराक में फंस गए हैं। ये यु‍वक जालंधर और कपूरथला जिलों के हैं। उन्‍होंने खुद काे वहां से निेकाल कर भारत वापसी की गुहार की है। इन युवकों के परिजनों की अपील के बाद उनकी वापसी के लिए केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री हरसिमरत कौर बादल सक्रिय हुई हैं। हर‍सिमरत ने विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर को पत्र लिखकर इन युवकों काे इराक से मुक्‍त कराने और भारत वापस लाने की की अपील की है। ये युवक पिछले सात महीनों से इराक के इरबिल शहर में फंसे हैं। हरसिमरत ने विेदेश मंत्री से अनुरोध किया है कि इन नौजवानों की सुरक्षित वापसी के लिए इराक में भारतीय दूतावास को निर्देश दें।

पीडि़त नौजवानों के पारिवारिक सदस्यों के साथ डॉ. जयशंकर से मिलेंगी हरसिमरत

उन्होंने कहा कि वह वीरवार को पीडि़त नौजवानों के परिवारों के साथ डॉ. जयशंकर से भी मिलेंगी। इस संबंध में उन्होंने विदेश मंत्री को पत्र लिखकर जालंधर तथा कपूरथला जिलों के इराक में फंसे सात पंजाबी नौजवानों की जल्द सुरक्षित वापसी के लिए आवश्यक कदम उठाने के लिए कहा है।

जालंधर व कपूरथला जिलों के हैं इराक में फंसे सातों युवक 

उन्होंने कहा कि इन नौजवानों की बहुत ही बुरी हालत है, क्योंकि वर्क परमिट न होने के कारण वह अपने निर्वाह के लिए वहां काम भी नहीं कर सकते। हरसिमरत ने कहा कि इन नौजवानों को वापस लाने के लिए हवाई टिकट के खर्च का भुगतान अकाली दल की तरफ से किया जाएगा।

ट्रैवल एजेंटो ने नौकरी का झांसा दे फंसाया

हरसिमरत बादल ने कहा कि दो ट्रेवल एजेंटों ने इराक में नौकरी दिलाने का झांसा देकर इन सात नौजवानों को ठगा गया था। उन्होंने कहा कि एजेंटों ने उनसे पैसे तो ले लिए, पर उन्हें वे दस्तावेज नहीं सौंपे, जिससे वे इराक में काम करने के योग्य हो जाते। उन्होंने कहा कि नौजवानों ने राज्य सरकार तथा केंद्र सरकार को अपनी वापसी के लिए अपील की है।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sunil Kumar Jha