Move to Jagran APP

पहले साल 28,362 नौजवानों को सरकारी नौकरियां देकर पंजाब सरकार ने स्थापित किया नया कीर्तिमान: CM भगवंत मान

मुख्यमंत्री भगवंत मान ने शनिवार को पंजाब राज्य पावर निगम लिमटेड के 1320 सहायक लाइनमैनों को नियुक्ति पत्र सौंपा। उन्होंने कहा कि सफलता के लिए कोई शॉर्ट कट नहीं होता और सिर्फ सख्त मेहनत से ही आम व्यक्ति अपने सपने पूरे कर सकता है।

By Jagran NewsEdited By: Anurag GuptaPublished: Sat, 01 Apr 2023 06:47 PM (IST)Updated: Sat, 01 Apr 2023 06:47 PM (IST)
28,362 नौजवानों को सरकारी नौकरियां देकर पंजाब सरकार ने स्थापित किया नया कीर्तिमान: CM भगवंत मान

चंडीगढ़, जेएनएन। मुख्यमंत्री भगवंत मान ने शनिवार को पंजाब राज्य पावर निगम लिमटेड (PSPSL) के 1320 सहायक लाइनमैनों को नियुक्ति पत्र सौंपते हुए कहा कि राज्य सरकार ने अपने कार्यकाल के पहले साल में 28,362 नौजवानों को सरकारी नौकरियों देकर नया कीर्तिमान स्थापित किया है।

यहां टैगोर भवन में नियुक्ति पत्र वितरण समारोह के दौरान बड़ी संख्या में उम्मीदवारों को रूबरू होते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि नौकरी चुने गए उम्मीदवारों के लिए बहुत अहम जिम्मेदारी लेकर आती है, क्योंकि उन्होंने मिशनरी भावना के साथ समाज की सेवा करनी होती है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी उम्मीदवारों का चयन पूरी तरह मेरिट और पारदर्शिता के आधार पर किया गया है और यह नौकरी उनकी सख्त मेहनत का नतीजा है। भगवंत मान ने पंजाब सरकार की तरफ से नौजवानों को परिवार का हिस्सा बनने पर स्वागत करते हुए उम्मीद जताई कि वह अपनी ड्यूटी ईमानदारी और समर्पण भावना के साथ निभाएंगे।

'सफलता का नहीं होता कोई शॉर्ट कट'

मुख्यमंत्री ने कहा कि सफलता के लिए कोई शॉर्ट कट नहीं होता और सिर्फ सख्त मेहनत से ही आम व्यक्ति अपने सपने पूरे कर सकता है। उन्होंने कहा कि यह नौकरी उनकी आखिरी मंजिल नहीं है, क्योंकि उनके जीवन में अभी बहुत पड़ाव पार करने हैं।

भगवंत मान ने कहा कि नये चुने गए उम्मीदवारों को अपनी मेहनत जारी रखनी चाहिए और सफलता किसी न किसी रूप में उनके हाथ जरूर आएगी।

मुख्यमंत्री ने उम्मीदवारों को नकारात्मक सोच रखने वाले लोगों की संगत से दूर रहने के लिए भी कहा, क्योंकि यह राज्य की तरक्की में रुकावट बनते हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब निवासियों ने 'आप' की सरकार बना कर राज्य की राजनीति में नया बदलाव लाया है। भगवंत मान ने कहा, ''जो लोग सत्ता में होते हुए महलों में से बाहर नहीं निकले थे, उनको राज्य के राजनीतिक नक्शे से बाहर कर दिया गया है।''

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिजली किसी भी राज्य के विकास के लिए सबसे अधिक महत्वपूर्ण होती है, इसलिए पीएसपीसीएल सही मायनों में पंजाब की रीढ़ की हड्डी है। उन्होंने कहा कि खेती प्रधान राज्य होने के कारण बिजली सप्लाई को पूरा करना किसी भी सरकार के लिए बड़ी चुनौती है।

भगवंत मान ने कहा कि यह बड़े मान और संतोष की बात है कि सरकार के अथक यत्नों स्वरूप राज्य में से लंबे कट लगने के दिन खत्म हो गए हैं, क्योंकि पंजाब अतिरिक्त बिजली बनने की तरफ बढ़ रहा है।

'बिजली उत्पादन में हुआ 83 प्रतिशत का विस्तार'

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार के यत्नों स्वरूप राज्य में बिजली उत्पादन में 83 प्रतिशत का विस्तार हुआ है। भगवंत मान ने कहा कि पछवाड़ा कोयला खाने से बिजली उत्पादन के लिए कोयले की सप्लाई कई सालों बाद फिर शुरू हुई है। उन्होंने कहा कि अब तक इस कोयला खाने से 5 लाख मीट्रिक टन कोयला प्राप्त किया जा चुका है और इसने बिजली सप्लाई बढ़ाने में अहम भूमिका निभाई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार के ठोस यत्नों स्वरूप केंद्र सरकार महानदी कोलफीलडज़ लिमटिड (MCL) से तलवंडी साबो पावर लिमटिड (TSPL) को कोयले की सप्लाई के लिए आरएसआर (रेल-समुद्र-रेल) की लाज़िमी शर्त को माफ करने के लिए सहमत हुई थी।

भगवंत मान ने कहा कि उन्होंने केंद्रीय बिजली मंत्री के पास मनमानी का यह मुद्दा मीटिंग के दौरान उठाया था, जिसके बाद इस संबंधी फैसला लिया गया था। उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार राज्य के हितों की रक्षा के लिए पूरी तरह वचनबद्ध है।

पंजाब सरकार PSPCL को मजबूत करने के लिए वचनबद्ध

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार पीएसपीसीएल को मजबूत करने के लिए वचनबद्ध है। भगवंत मान ने कहा कि वह पहले ही सभी विभागों को अपने बकाया बिलों को पीएसपीसीएल के पास जमा करवाने के लिए कह चुके हैं जिससे इसकी वित्तीय स्थिति और मजबूत हो सके। उन्होंने कहा कि बिजली पैदा करने के रिवायती तरीकों के इलावा राज्य में बिजली पैदा करने के अन्य तरीकों को भी उत्साहित किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि पंजाब में पानी और बिजली की बचत करने के लिए राज्य सरकार फसली विभिन्नता को बड़े स्तर पर उत्साहित कर रही है। उन्होंने उम्मीद जताई कि इससे पीएसपीसीएल पर बिजली उत्पादन के दबाव को घटाने में मदद मिलेगी और अतिरिक्त बिजली का प्रयोग अन्य सैक्टरों के विकास के लिए भी किया जा सकेगा।

भगवंत मान ने कहा कि राज्य सरकार वैकल्पिक फसलों के उचित मंडीकरण को यकीनी बना कर राज्य और इसके किसानों के हितों की रक्षा के लिए वचनबद्ध है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार का हर कदम आम आदमी का जीवन स्तर सुधारने के उद्देश्य से है। उन्होंने कहा कि 600 यूनिट मुफ्त बिजली, रोजगार, स्कूलों और अस्पतालों के कायाकल्प और अन्य फैसले राज्य का चेहरा बदलने का काम कर रहे हैं। भगवंत मान ने प्रण किया कि उनकी सरकार का हर फैसला आम आदमी और राज्य की भलाई को यकीनी बनाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षा, सेहत और रोजगार के क्षेत्र उनकी सरकार के तीन प्रमुख क्षेत्र हैं। उन्होंने कहा कि मौजूदा साल में इन तीनों क्षेत्रों में बड़ी तब्दीलियां देखने को मिलेंगी, क्योंकि राज्य सरकार इसलिए पूरे उत्साह के साथ काम कर रही है।

भगवंत मान ने कहा कि राज्य सरकार का मुख्य ध्यान इन सैक्टरों में ठोस बुनियादी ढांचे और मानवीय शक्ति के द्वारा राज्य में से नौजवानों के विदेश जाने के रुझान को रोकना है। इससे पहले कैबिनेट मंत्री हरभजन सिंह ईटीओ ने मुख्यमंत्री और अन्य शख्सियतों का स्वागत किया।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.