जेएनएन, चंडीगढ़/श्री मुक्तसर साहिब। मलोट में भाजपा के अबोहर से विधायक अरुण नारंग पर हुए हमले के आरोप में पुलिस ने 20 और आरोपितों की पहचान करके उनके नाम एफआइआर में जोड़कर इनमें से चार आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। इसी मामले में रविवार को राज्यपाल वीपी सिंह बदनौर ने विधायक पर हुए हमले की निंदा करते हुए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से इस मामले में सरकार की ओर से की जा रही कार्रवाई की रिपोर्ट भी मांगी है।

उधर, प्रदेश भाजपा के शिष्टमंडल ने राज्यपाल से मुलाकात कर कैप्टन सरकार को बर्खास्त करने की मांग की और इसके बाद मुख्यमंत्री आवास के बाहर अर्धनग्न होकर धरना दिया। राज्यपाल वीपी सिंह बदनौर ने राज्य का गृह विभाग देख रहे मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से बात की और हमले की घटना पर गंभीर चिंता जताई। उन्होंने कहा कि इस तरह के गैर-कानूनी और हिंंसक हमलों की आज्ञा नहीं दी जा सकती। ऐसी घटनाएं दोबारा नहीं होनी चाहिएं और दोषियों को काबू करने के लिए तुरंत सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए।

राज्यपाल ने राज्य सरकार से हमले के ऐसे मामलों में की जा रही कार्रवाई की रिपोर्ट भी मांगी। इसी मामले में भाजपा के प्रदेश प्रधान अश्वनी शर्मा और केंद्रीय राज्य मंत्री सोम प्रकाश के नेतृत्व में राज्यपाल से मुलाकात कर कैप्टन सरकार को बर्खास्त कर राज्य में कानून व्यवस्था को बहाल करने की मांग की। इसके बाद भाजपा ने चंडीगढ़ स्थित मुख्यमंत्री के आवास के बाहर अर्धनग्न होकर नारेबाजी की। अश्वनी शर्मा ने कहा कि कांग्रेस के इशारे पर भाजपा नेताओं पर हमले किए जा रहे हैं। अरुण नारंग पर हुआ हमला पूर्ण रूप से राजनीति से प्रेरित है।

गौैरतलब है कि कुछ समय पहले भाजपा नेताओं पर हुए हमले को लेकर राज्यपाल ने डीजीपी और चीफ सेक्रेटरी को तलब किया था। जिस पर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह व कांग्रेस के प्रदेश प्रधान ने इसकी निंदा की थी। उन्होंने इसे सरकार के कामकाज में हस्तक्षेप बताया था।

अब तक 27 लोगों की हुई पहचान, किसान नेता फरार

पुलिस ने विधायक नारंग पर हमला करने वाले 27 लोगों की पहचान कर ली है। मुक्तसर की एसएसपी डी सुडरविली ने कहा कि हमले की वीडियो देखकर 20 और लोगों की पहचान हुई है। इनमें से गांव बोधीवाला के रहने वाले सुरजीत सिंह, नेमपाल सिंह व बलदेव सिंह और गांव खुन्नकलां के रहने वाले गुरमीत सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है। शेष आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए छापामारी जारी है। शनिवार को पांच किसान नेताओं सहित जिन सात लोगों को नामजद किया गया था वह सभी अभी फरार हैं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप