चंडीगढ़, जेएनएन। पंजाब यूनिवर्सिटी प्रशासन ने शनिवार को कोरोना वायरस (Corona Virus) से बचाव उपाय के लिए कैंपस को बंद करने का आदेश दे दिया। पीयू प्रशासन ने हॉस्टल में रहने वाले स्टूडेंट्स को घर जाने की सलाह दी। आदेश जारी होने की बाद शनिवार देर रात से ही कई स्टूडेंट्स अपने घर लौट गए हैं। जो स्टूडेंट्स हॉस्टल में बच गए थे, उन्होंने रविवार को हॉस्टल छोड़ अपने घरों का रुख किया। पीयू में बने 19 हॉस्टल्स में इस समय बहुत कम स्टूडेंट्स बचे हुए हैं। ये वे हैं जो जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, केरल, मणिपुर और मिजोरम के अलावा बंगाल, बिहार आदि दूरस्थ राज्यों से आए हुए हैं। 

पेरेंट्स खुद पहुंचे स्टूडेंट्स को लेने 

जहां एक और स्टूडेंट्स स्वयं टैक्सी या फिर ऑटो करके हॉस्टल से निकल रहे थे, वहीं दूसरी ओर कुछ एक स्टूडेंट्स के पेरेंट्स उन्हें लेने के लिए कैंपस आए। पीयू गर्ल्स हॉस्टल नंबर 6 में होशियारपुर की रहने वाली जसमीत ने बताया कि उन्होंने जब इस बात की जानकारी अपने पेरेंट्स को दी थी तो उन्होंने खुद उन्हें लेने आने की बात कही।

चंडीगढ़ में पीयू प्रशासन की सलाह के बाद हॉस्टल खाली कर घर जाते हुए स्टूडेंट्स।

शाम तक और स्टूडेंट्स जाएंगे अपने घर

हॉस्टल में रहने वाले कई स्टूडेंट्स ने बताया कि वह शाम तक हॉस्टल खाली कर अपने घर निकल जाएंगे। वहीं स्टूडेंट्स ने यह भी कहा कि पीयू प्रशासन ने जारी आदेश में स्टूडेंट्स को घर जाने की सलाह थी है लेकिन यह सलाह एक तरह से आदेश के बराबर है। 

महिलाएं कर्मचारी भी रही शामिल 

पीयू में बने वर्किंग वुमन हॉस्टल में रहने वाली कई महिलाएं हॉस्टल खाली कर अपने घर निकल गई हैं। नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर एक कर्मचारी ने बताया कि उन्हें अधिकारियों ने सीधा अपने घर जाने की सलाह दी है। अधिकारियों ने उन्हें साफ अक्षरों में कह दिया है कि वह हॉस्टल में ना रुके और अपने घर चली जाएं। 

स्टूडेंट को सता रहा जबरदस्ती निकालने का डर 

जो स्टूडेंट्स इस समय हॉस्टल में रह रहे हैं या रुके हुए हैं उन्हें सबसे ज्यादा डर इस बात का सता रहा है कि कहीं पीयू प्रशासन उन्हें जबरदस्ती हॉस्टल से ना निकाल दे। 

हॉस्टल्स में जो स्टूडेंट्स रुके हुए है, उन्हें डरने की जरूरत नहीं है। पीयू प्रशासन किसी भी स्टूडेंट्स को जबरदस्ती हॉस्टल खाली करने के लिए दबाव नहीं बना सकता। जो स्टूडेंट दूर-दराज के इलाकों से यहां पढ़ने के लिए आए हुए हैं, उनका वापस जाना बहुत मुश्किल है। अगर फिर भी पीयू प्रशासन स्टूडेंट के साथ जोर जबरदस्ती करता है तो छात्र काउंसिल स्टूडेंट्स की मदद के लिए हमेशा तैयार खड़ी है।

-चेतन चौधरी, प्रेसिडेंट पीयू छात्र काउंसिल 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें  

Posted By: Pankaj Dwivedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!