चंडीगढ़, जेएनएन। शिक्षा के लिए काम कर रही शहर की स्वयंसेवी संस्था ओपन आइज फाउंडेशन की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी जमकर तारीफ की है। रविवार को मन की बात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने संस्था द्वारा किए जा रहे कार्यो की सराहना की। ओपन आइज फाउंडेशन बीते तीन सालों से शिक्षा के लिए काम कर रही है। फाउंडेशन की शुरुआत एनएसएस के पूर्व वॉलंटियर संदीप कुमार ने की थी।

शहर के सरकारी कॉलेज से ग्रेजुएशन पास करने के बाद संदीप कुमार ने जेबीटी का कोर्स पूरा किया। इसके बाद वह समाजसेवा में जुटे हैं। लोगों के घरों से बेकार हो चुकी पुस्तकों को यह रद्दी के दाम में उठाते हैं और उसके बाद उनकी मरम्मत करके स्कूल और कॉलेजों में जरूरतमंद बच्चों तक पहुंचाते हैं। अब तक संदीप तीस हजार के करीब स्कूल और कॉलेज के स्टूडेंट्स को किताबें और स्टेशनरी का सामान दान कर चुके हैं। ज्यादा से ज्यादा स्टूडेंट्स तक संदीप पहुंच सके इसके लिए उन्होंने एक स्पेशल बैन भी शुरू की हुई है, जिसमें वह किताबें रखकर किसी भी स्कूल या फिर जरूरत वाले स्थान पर पहुंचकर बच्चों को फ्री में पुस्तकें देते है।

किताबें रखने के लिए बनाई है लाइब्रेरी

संदीप ने पुस्तकों को रखने के लिए शहर खुड्डा लाहौरा में लाइब्रेरी भी बना रखी है। जिसमें वह पुस्तकों को रखते हैं और जरूरतमंद स्टूडेंट्स तक पहुंचाते हैं। इस लाइब्रेरी में संदीप के पास करीब पाच हजार किताबों का भंडार है।

पंजाब के मुख्यमंत्री भी कर चुके हैं तारीफ

संदीप के प्रयास की तारीफ पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह भी कर चुके हैं। शहर में संदीप को बुकमैन के नाम से जाना जाता है। प्रधानमंत्री द्वारा तारीफ करने पर स्टेट लाइजन ऑफिसर विक्रम राणा ने कहा कि संदीप की मेहनत और लगन के चलते उसे यह मुकाम मिला है जिसके लिए वह मुबारकबाद का हकदार है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!