जेएनएन, चंडीगढ़। शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने प्रसिद्ध रागी पद्मश्री निर्मल सिंह खालसा के उपचार में की गई लापरवाही के लिए स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू तथा मेडिकल शिक्षा व खोज मंत्री ओपी सोनी को तत्काल बर्खास्त करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह प्रसिद्ध रागी के इलाज में हुई लापरवाही और वेरका श्मशान घाट में अंतिम संस्कार न करवा पाने के लिए खालसा के परिवार और सिख समुदाय से माफी मांगें।

सुखबीर ने कहा कि भाई खालसा द्वारा अपने परिवार के साथ टेलीफोन पर की गई अंतिम बातचीत के विवरण ने समूची सिख कौम को हिलाकर रख दिया है। यह भी पता चला है कि अस्पताल में गंदगी थी, नर्सों के पास सुरक्षा के लिए दस्ताने नहीं थे। अस्पताल में थर्मामीटर तक नही था। उन्होंने कहा कि सरकार ने भाई खालसा की मौत से कोई सबक नहीं सीखा है। अब उनके भतीजे जगप्रीत सिंह ने बताया है कि परिवार के तीन सदस्य कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, पर अमृतसर के मेडिकल कॉलेज में उनका भी कोई इलाज नहीं हो रहा है।

उन्होंंने स्वयं को वहां से तबदील किए जाने की मांग की है। मेडिकल कॉलेज में सुविधाओं की कमी के लिए स्वास्थ्य मंत्री तथा मेडिकल शिक्षा तथा खोज मंत्री दोषी हैं, इसलिए दोनों को बर्खास्त किया जाए। पूरे मामले में मुख्यमंत्री को तत्काल हस्तक्षेप करना चाहिए और जरूरी टेस्टिंग व पीपीई किटों सहित सभी सुविधाएं उपलब्ध करवानी चाहिए। ऐसे संवेदनशील समय में वह सरकार की आलोचना नहीं करना चाहते थे, लेकिन भाई खालसा और अन्य मरीजों के प्रति सरकार के लापरवाह व्यवहार ने उन्हें मजबूर कर दिया। मुख्यमंत्री ने दो दिन बाद भी कोई कार्रवाई जरूरी नहीं समझी है।

श्मशान घाट में ताला लगाने वाला कांग्रेस नेता

सुखबीर ने कहा कि वेरका में प्रदेश कांग्रेस कमेटी सदस्य हरपाल सिंह ने श्मशान घाट के गेट को ताला लगा दिया। उसकी पत्नी पार्षद है। उन्होंने आरोप लगाया कि हरपाल गांव शहजादा के प्राइमरी स्कूल में मास्टर लगा है, लेकिन स्कूल नहीं जाता है। गांव वालों की शिकायत है कि वह दो-दो महीने स्कूल से अनुपस्थित रहता है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!