जागरण संवाददाता, मोहाली। विदेश जाने के चाह रखने वाले लोगों के साथ इमीग्रेशन कंपनियां मोटी रकम लेकर उन्हें ठगी का शिकार बना रही है। ठगी के ऐसे मामले ज्यादातर पंजाब में सामने आते हैं। इस तरह की ठगी को रोकने के लिए मोहाली पुलिस ने कमर कस ली है। इसके तहत पुलिस अब मोहाली में इमीग्रेशन कंपनियों के दफ्तरों में दबिश देकर उनके वैध होने का प्रमाण मांग रही है। वहीं जिन कंपनियों के पास कोई दस्तावेज नहीं है उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जा रही है।

मोहाली के फेज-11 थाना पुलिस ने सरप्राइस चेकिंग के दौरान बिना लाइसेंस के चल रही एक इमीग्रेशन कंपनी के कर्मचारी को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गए आरोपित की पहचान राजू सोनी निवासी फतेहाबाद हरियाणा के रूप में हुई है। पुलिस को इमीग्रेशन कंपनी में रेड के दौरान चार पासपोर्ट व इलीगल पेपर बरामद किए हैं । पुलिस ने आरोपित राजू के खिलाफ थाना फेज- 11 में इमीग्रेशन एक्ट की धारा -24 के तहत मामला दर्ज किया है।

डीएसपी कम एसएचओ फेज- 11 ने बताया कि एसएसपी मोहाली के दिशा निर्देशों पर इमीग्रेशन कंपनियों में बढ़ रहे ठगी के मामलों को देखते हुए सरप्राइस चेकिंग करने के निर्देश जारी हुए थे। इन निर्देशों की पालना करते हुए फेज- 11 थाना पुलिस ने इमीग्रेशन कंपनी ब्राइट कंसलटेंसी के दफ्तर में रेड कर सरप्राइस चेकिंग की। जहां पुलिस को जाली दस्तावेज बरामद हुए और पता चला कि यह इमीग्रेशन कंपनी बिना लाइसेंस के चल रही थी। जो कि इसकी आड़ में पंजाब के भोले भाले लोगों से विदेश भेजने के नाम पर ठगी का कारोबार कर रहे थे। पुलिस ने इमीग्रेशन कंपनी के खिलाफ कार्रवाई करते हुए वहां मौजूद राजू सोनी को गिरफ्तार कर लिया। हालांकि पुलिस अभी कंपनी के असल मालिक के बारे में जानकारी जुटाने में जुटी हुई है। वहीं, गिरफ्तार किए गए कर्मचारी से पूछताछ की जा रही है।

Edited By: Ankesh Thakur