राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। PM Modi Repeal Farm Laws: पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी द्वारा तीन कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा को किसान व मजदूर संगठनों की जीत बताया है। उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने अभी घोषणा की है, जब तक संसद से यह कानून वापस नहीं हो जाते तब तक भरोसा नहीं किया जा सकता है। उन्‍होंने घोषणा की, कि किसान आंदोलन के दौरान शहीद हुए 700 किसानों की याद में पंजाब में स्‍मारक बनाया जाएगा। 

कहा- बीएसएफ वाले मुद्दे पर संघर्ष के लिए तैयार रहे किसान और खेत मजदूर यूनियन 

इसके साथ ही सीएम चन्‍नी ने किसान संगठन, मजबूर संगठन और राज्‍य के लोगों को बार्डर क्षेत्र में बीएसएफ का दायरा 15 से बढ़ा कर 50 किलोमीटर करने के फैसले के खिलाफ संघर्ष के लिए तैयार रहने की अपील की। पंजाब भवन में पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री चन्‍नी ने घोषणा की कि किसान संघर्ष के दौरान मारे गए 700 किसानों की याद में पंजाब सरकार एक स्मारक बनाएगी। इसका नाम किसान संगठनों के साथ बातचीत करके तय कर लिया जाएगा।

मुख्यमंत्री चन्‍नी ने कृषि कानूनों को वापस लेने पर प्रधानमंत्री का धन्यवाद नहीं किया बल्कि उनकी घोषणा पर संदेह व्यक्त किया। मुख्यमंत्री चन्‍नी ने शेर बढ़ते हुए कहा, ‘सब कुछ लुटा कर होश में आए तो क्या हुआ।' उन्‍होंने कहा कि कृषि कानून को एक जिद की वजह से लटकाया गया। सुप्रीम कोर्ट ने इन पर रोक लगा दी, फिर भी इसे लटाए रखा गया। अब चुनाव आ गए हैं, इसलिए इन्हें वापस लेने की घोषणा कर दी गई। कहते हैं मछली पत्थर चाट कर मुड़ती है। मुख्यमंत्री ने एमएसपी पर कानूनी गारंटी की मांग की और इसके साथ ही  उन्होंने किसान आंदोलन के दौरान पंजाब को हुए नुकसान के लिए केंद्र सरकार के विशेष पैकेज की मांग की।

चन्‍नी ने कृषि कानूनों के वापस होने पर किसानाें के संघर्ष और लोकतांत्रिक सिस्टम को श्रेय दिया। उन्‍होंने कहा, यह सबकुछ अपने-आप नहीं हुआ है। शिरोमणि अकाली दल ने कानून लाने में केंद्र सरकार को कंधा दिया। उन्होंने उन्हें विश्वास दिलवाया कि किसान उनके साथ हैं और वे सरकार के साथ हैं। उन्होंने कहा कि आज भी भाजपा और अकाली दल अलग नहीं है। आम आदमी पार्टी पर निशाना साधते हुए चन्नी ने कहा कि अब तो प्रधानमंत्री ने भी कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा कर दी है, लेकिन आम आदमी पार्टी ने जो इन कानूनों को दिल्ली में नोटीफाइ किया है और उसे अभी तक वापस नहीं लिया है। 

Edited By: Sunil Kumar Jha