जागरण संवाददाता, चंडीगढ़ : मानसून आते ही महंगाई की मार लोगों पर पड़नी शुरू हो गई है। उत्तर भारत के कई राज्यों में भारी बारिश होने से मंडियों में सब्जियों की आवक पर भी असर पड़ा है। सेक्टर-26 सब्जी मंडी में इस समय सब्जियों में दाम में बढ़ोतरी होनी शुरू हो गई है। सब्जी विक्रेताओं का कहना है कि अभी केवल दो से पांच रुपये सब्जी के दाम में इजाफा हुआ है। परवाणु में मंडी बनने के बाद हिमाचल प्रदेश से आने वाली हर एक चीज की सप्लाई पर असर पड़ा है। टमाटर का जो एक क्रेट पहले 900 रुपये का थी उसमें 200 रुपये बढ़ गए है। मार्केट में टमाटर की कीमत 40 रुपये प्रति किलो है लेकिन आगे आते आते इस समय यह 60 से 70 रुपये प्रति किलो बिक रहा है। प्याज भी 70 रुपये प्रति किलो बिक रही है। रोजमर्रा के प्रयोग में आने वाली कई सब्जियों के खुदरा दाम काफी बढ़ गए हैं। आलू से लेकर के भिडी-टमाटर, गोबी के दामों में काफी इजाफा देखने को मिल रहा है। इसके साथ ही फलों की कीमतें काफी कम हैं। आने वाले दिनों में फल और सब्जियों के दाम में काफी इजाफा होगा।

सब्जी पहले का रेट अब का रेट

घीया 30 रुपये 50 रुपये

शिमला मिर्च 20 रुपये 40 रुपये

अरबी 30 रुपये 40 रुपये

भिडी 20 रुपये 30-40 रुपये

तोरी 20 रुपये 30-40 रुपये

करेला 20 रुपये 30 रुपये

फूल गोभी 25 रुपये 40 रुपये

खीरा 15-20 रुपये 30-35 रुपये

टमाटर 25-30 रुपये 60-70 रुपये

आलू पहाड़ी 20 रुपये 32 रुपये

प्याज 14 रुपये 24 रुपये

बैंगन 20-25 रुपये 30-40 रुपये

फ्रासबीन 40 रुपये 70-80 रुपये

(नोट: सब्जियों के दाम प्रति किलो में)

Edited By: Jagran