जासं, चंडीगढ़ : कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए यूटी प्रशासन ने अब नया निर्णय लिया है। इसके तहत सेक्टर-26 मंडी में सब्जी और फल के होलसेल विक्रेताओं को दो हिस्सों में बांटकर दुकानें खोलने की अनुमति दी गई है। इस तरह एक दिन में आधे व्यापारी ही मंडी में दुकान खोल सकेंगे। शेष बचे आधे व्यापारियों को अगले दिन दुकान खोलने का मौका मिलेगा। सभी व्यापारी एक साथ अपनी दुकानें नहीं खोल सकेंगे। मंडी को रिटेल के लिए पूरी तरह बंद कर दिया गया है। यहां सिर्फ होलसेल के लिए ही दुकानें खोली जाएंगी। यह नया आदेश दो अप्रैल से लागू होगा।

मंडी में 130 सब्जी और फल के होलसेल व्यापारियों की दुकानें हैं। इनमें से इवन और ऑड के तहत बांटकर एक-एक बारी-बारी से दुकानें खोलने का निर्देश जारी किया गया है। यही नियम सेक्टर-26 मंडी में करियाना का कारोबार करने वालों पर ही लागू होगा। जबकि बारदाना का काम करने वालों की दुकानें पूरी तरह से बंद रहेगी। नगर निगम की ओर से जो 60 सीटीयू बस की तैनाती सब्जियों और फल की सप्लाई के लिए की गई है, उनमें से भी 20-20 बसों को बांटकर भेजा जाएगा।

मंडी में एंट्री और एग्जिट के लिए सिर्फ एक-एक प्वाइंट बनाया जाएगा। सीमित संख्या में ही ट्रक और कैंटर को मंडी में आने की मंजूरी दी जाएगी। एंट्री करने वाले वाहनों की संख्या प्रतिदिन स्थिति के हिसाब से तय की जाएगी। किसी भी शहरवासी को मंडी में एंट्री करने की मंजूरी नहीं होगी। कोई भी वाहन मंडी के अंदर पार्क नहीं होगा। वाहनों की पार्किंग मध्य मार्ग के साथ लगती पार्किंग में ही होगी। मंडी प्रतिदिन तीन घंटे के लिए सेनिटाइज के लिए बंद होगी। मंडी के अंदर किसी को बिना मॉस्क पहने जाने की मंजूरी नहीं है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!