जागरण संवाददाता, चंडीगढ़ :

शहर को हरा-भरा बनाए रखने और पुराने पेड़ों की देखभाल के लिए फॉरेस्ट एंड वाइल्ड लाइफ डिपार्टमेंट ने ग्रीनिग चंडीगढ़ एक्शन प्लान-2021-22 तैयार किया है। पंजाब राजभवन में प्रशासक वीपी सिंह बदनौर ने इन एक्शन प्लान को लांच किया। इस साल 1 लाख 75 हजार पौधे लगाने का लक्षय निर्धारित किया गया है, जिसमें फॉरेस्ट डिपार्टमेंट 75 हजार, इंजीनियरिग डिपार्टमेंट की हॉर्टिकल्चर विग 40 हजार और नगर निगम 60 हजार पौधे लगाने का लक्षय तय किया है। इसके अलावा फॉरेस्ट डिपार्टमेंट 80 हजार पौधे निशुल्क बांटेगा। इंजीनियरिग डिपार्टमेंट 15 हजार पौधे निशुल्क बांटेगा और सेल करेगा। इसी तरह से नगर निगम 10 हजार पौधे डिस्ट्रीब्यूट और सेल करेगा। कुल दो लाख 80 हजार पौधे लगाने का लक्ष्य रखा गया है। इसके अलावा तीन लाख बीज बोए जाएंगे। जबकि 3.20 लाख पौधों की कटिग होगी। बात पिछले साल की करें तो डिपार्टमेंट के अनुसार 2.55 लाख का लक्ष्य था जिसकी जगह 2.83 लाख पौधे लगाए गए। प्रशासक वीपी सिंह बदनौर ने इस मौके पर कहा कि चंडीगढ़ के रेजिडेंट्स पारंपरिक नेचर लवर्स हैं। इस पूरे अभियान में लोगों को शामिल किया जाना चाहिए। बंजर जमीन को उपजाऊ हरा भरा बनाने के लिए काम होना चाहिए। इससे खाद्य उत्पादन बढ़ेगा। जैवविविधता के लिए भी यह महत्वपूर्ण है। चीफ कंजर्वेटर ऑफ फॉरेस्ट देबेंद्र दलाई ने बताया कि चंडीगढ़ ने 46 फीसद एरिया को ग्रीन कवर फॉरेस्ट कवर रखने में सफलता हासिल की है। ग्रीनरी को बढ़ाने के लिए ग्रीन एक्शन प्लान तैयार किया गया है। लोगों के सहयोग से इस अभियान को सफल बनाया जाता है। सुखना वाइल्ड लाइफ सेंक्चुरी पर शॉर्ट फिल्म भी इस मौके पर रिलीज की गई। डिप्टी कंजर्वेटर ऑफ फॉरेस्ट डा. अब्दुल क्यूम ने प्रेजेंटेशन के जरिए एक्शन प्लान की विस्तृत जानकारी दी।

Edited By: Jagran