राजेश ढल्ल, चंडीगढ़। करवा चौथ पर हिमाचल प्रकोष्ठ की ओर से पार्टी कार्यालय में महिलाओं के लिए कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। इसमें हिमाचल से संबंध रखने वाले नेता डा. ओपी सिंह ने चंडीगढ़ भाजपा अध्यक्ष अरुण सूद को राष्ट्रीय अध्यक्ष कह कर संबोधित कर दिया। वहीं, नेता फकीर चंद ने सूद के नाम के आगे डाक्टर लगा दिया। इसका जिक्र भाजपा अध्यक्ष अरुण सूद ने अपने संबोधन में किया। सूद ने कहा कि हिमाचल के लोग अपने जमाईयों का सत्कार करते हैं, लेकिन कहीं ऐसा न हो जो असल में हिमाचल का बेटा जेपी नड्डा राष्ट्रीय अध्यक्ष है कहीं वह न नाराज हो जाए।

दरअसल अरुण सूद का ससुराल हिमाचल में है। उनकी पत्नी शिमला की रहने वाली हैं। सूद ने यह भी कहा कि जब वह किसी अन्य कार्यक्रम में जाते हैं तो उनकी पत्नी कहती है कि वह सारा दिन इधर उधर घूमते रहते हो लेकिन जब हिमाचल प्रकोष्ठ का कार्यक्रम होता है तो उनकी पत्नी कभी नहीं टोकती। सूद ने यह भी कहा कि अब उन्हें धाम भी काफी पंसद है।

चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव के लिए वार्ड ड्रा के बाद कई नेताओं के चुनाव लड़ने के अरमान पर पानी फिर गया है। ऐसे में अब किसी तरह से जुगाड़ कर रहे हैं कि उन्हें किसी दूसरे वार्ड से टिकट मिल जाए, जिसके लिए दावेदार कई तरह की लाबिंग कर रहे हैं। हाल ही में दो दावेदार कांग्रेस नेताओं से मिलने पहुंचे। उन्होंने दूसरे वार्ड में चुनाव लड़ने का दावा करते हुए कहा कि संबंधित वार्ड में उनका जन्म हुआ है। जबकि दूसरे दावेदार ने कहा कि उनके नानके संबंधित वार्ड से हैं। टिकट के लिए दावेदार अपने करीबियों पर एक दूसरे पर जमकर आरोप भी लगा रहे हैं।

वहीं, एक महिला दावेदार ऐसी हैं उनका हर आधे घंटे बाद वार्ड बदल जाता है। इस समय वह शहर की चार अलग अलग सीटों से टिकट मांग रही हैं। उनके लिए परिवार के सदस्य भी लाबिंग कर रहे हैं। हाल ही में कांग्रेस अध्यक्ष भी हैरान हो गए कि सुबह जिस वार्ड से टिकट मांगी जा रही थी दोपहर बाद फिर से दूसरे वार्ड से टिकट की डिमांड की जा रही है। ऐसे में कांग्रेस अध्यक्ष सुभाष चावला ने भी स्पष्ट कह दिया कि पूर्व केंद्रीय मंत्री पवन कुमार बंसल ही उनकी टिकट फाइनल करेंगे।

खुद की जंबो लिस्ट

जब कांग्रेस की प्रदेश कार्यकारिणी का गठन हुआ था तो प्रदीप छाबड़ा ने इस कार्यकारिणी को जंबो बॉडी कह कर सवाल खड़ा किया था। उस समय छाबड़ा कांग्रेस में ही थे।लेकिन अब आम आदमी पार्टी ने भी जंबाे लिस्ट बनाई। जिसमें 22 महासचिव और 23 उपाध्यक्ष मनोनीत किए गए। जिसमें अधिकतर प्रदीप छाबड़ा के ही करीबियों को महासचिव और उपाध्यक्ष की जिम्मेवारी मिली।अधिकतर नेता वह है जो कांग्रेस छोड़कर आप में शामिल हुए हैं।जिसको लेकर कई पुराने नेता भी नाराज हो गए हैं।शुरू हुई इस खटपट पर कांग्रेस के नेता नजर लगाए हुए हैं कि कब बवाल हो और इसका फायदा उठाने का प्रयास किया जाए। आप की प्रदेश कार्यकारिणी में ऐसे भी नेता है जिनको कांग्रेस में छोटे पद ही दिए जाते थे लेकिन आप में आने के बाद उन्हें प्रदेश कार्यकारिणी में शामिल कर दिया जाए जिसको लेकर भी कई नेता हैरान है, लेकिन सभी को अडजस्ट करके छाबड़ा ने अपना दबदबा कायम रखने का मैसेज दिया है। गपशप करते हुए कई नेता कह रहे हैं कि अब देखने वाली बात है कि नगर निगम चुनाव में छाबड़ा का कितना सिक्का चमकता है।

शेयर मार्केट काफी ऊपर

कांग्रेस से चुनाव लड़ने के इच्छुक दावेदारों ने आवेदन फार्म लेना शुरू कर दिया है। ऐसे में कांग्रेस भवन में पिछले दिनों जहां सन्नाटा पसरा रहता था अब वहां पर चहल पहल रहती है। जहां पर पूरा दिन टिकटों को लेकर मंथन होता है। ऐसे में कांग्रेस अध्यक्ष सुभाष चावला भी कहते हैं कि आजकल उनकी शेयर मार्केट काफी ऊपर है क्योंकि टिकट लेने वालों की होड़ ज्यादा है। जिससे कांग्रेस के सीनियर नेता भी गदगद है। उन्हें लगता है कि दिसंबर में होने वाले निगम चुनाव में पार्टी का प्रदर्शन काफी अच्छा रहेगा। हाल ही में एक नेता ने एक दावेदार को उनकी इच्छा पूछने के लिए भी फोन किया। उस दावेदार ने कहा कि वह ज्योतिष विद्या में काफी विश्वास रखता है और वह अपने पंडित से पूछकर बताएंगे कि वह चुनाव लड़ेंगे या नहीं। इस दावेदार का कहना है कि उनके बारे में उनके पंडित ने जो आज तक भविष्यवाणी की है वह सच निकली है।

Edited By: Ankesh Thakur