जेएनएन, चंडीगढ़। प्रदेश में जिला परिषद व पंचायत समिति चुनावों के लिए 20 हजार से ज्यादा जवान तैनात किए जाएंगे। अर्धसैनिक बलों की भी 8 कंपनियों की तैनाती की जा रही है। पांच कंपनियां पंजाब पहुंच चुकी हैं। विपक्ष लगातार चुनावों में केंद्रीय सुरक्षा बल तैनात करने की मांग कर रहा है। आम आदमी पार्टी व अकाली दल ने राज्य चुनाव आयोग से सत्ताधारी कांग्रेस के खिलाफ शिकायत भी की है। बठिंडा में आप उम्मीदवार की हत्या के बाद इस बार चुनाव में खूनी संघर्ष की आशंका जताई जा रही है।

बता दें, पंजाब में जिला परिषद व पंचायत समिति चुनावों के लिए 19 सितंबर को सुबह 8 बजे से शाम 4 बजे तक वोट पड़ेंगे, जिनकी गिनती 22 सितंबर को होगी। पुलिस ने बीते सप्ताह सभी जिलों के पुलिस प्रमुखों से सुरक्षा बलों की जरूरत और सुरक्षा को लेकर जिला स्तर पर तैयार किए गए प्लान की जानकारी मांगी थी। मंगलवार को लगभग जिलों से सुरक्षा बलों की तैनाती को लेकर विस्तृत जानकारी पुलिस मुख्यालय को उपलब्ध हो गई है।

डीजीपी सुरेश अरोड़ा ने सुरक्षा व्यवस्था को लेकर बैठक करके निर्देश दिए हैं कि दो दिन में फाइनल एक्शन प्लान तैयार करके उसके हिसाब से फोर्स की तैनाती कर दी जाए। जिलों से आई रिपोर्ट के अनुसार चुनावों में 17 हजार जवानों की तैनाती किए जाने की मांग की गई है। इनमें से 9 हजार जवानों की उपलब्धता पहले से ही जिलों में है। बाकी के जवान पुलिस अकादमी व अन्य फोर्स के साथ-साथ अर्धसैनिक बलों से तैनात किए जाने हैं। कुल बीस हजार से ज्यादा जवान तैनात किए जाने की तैयारी है।

थ्री लेयर सुरक्षा व्यवस्था : डीजीपी

डीजीपी ने बताया कि संवेदनशील व अति संवेदनशील मतदान केंद्रों पर थ्री लेयर की सुरक्षा व्यवस्था किए जाने पर विचार किया जा रहा है। पंजाब पुलिस की तरफ से चुनाव के मद्देनजर तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। दो दिन बाद फाइनल रिपोर्ट तैयार करके जिस-जिस जिले को जितने जवान चाहिए उपलब्ध करवा दिए जाएंगे। साथ ही चुनाव आयोग की सिफारिश पर भी गंभीरता से काम किया जा रहा है।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Kamlesh Bhatt