जासं, चंडीगढ़ : मेयर राजेश कालिया की मीटिंग में जबरन घुसने व हाथापाई करने के मामले में छह दिन बाद भी पुलिस की ओर से एफआइआर दर्ज नहीं की जा सकी है। हालांकि नगर निगम की ओर से आरोपित कृष्ण चड्ढा को सस्पेंड किया जा चुका है। मामले में शिकायत के छह दिन बाद भी कार्रवाई न कर पाने को लेकर चंडीगढ़ पुलिस की दलील है कि पुलिस अभी इस प्रकरण में कानूनी सलाह ले रही है।

उधर, शिकायतकर्ता मेयर का आरोप है कि चंडीगढ़ पुलिस किसी दबाव में एफआइआर दर्ज करने से पीछे हट रही है। सेक्टर-17 थाना पुलिस ने मेयर से लिखित शिकायत पर डीडीआर दर्ज किया था। वही, आला अधिकारियों का कहना है कि शिकायत के बाद कृष्ण चड्ढा से पूछताछ भी की गई। कानूनी सलाह की रिपोर्ट आने के बाद मामले में तुरंत कार्रवाई की जाएगी।

दैनिक जागरण ने किया था खुलासा

दैनिक जागरण ने खुलासा किया था कि 600 से अधिक कर्मचारी अफसरों की कोठियों में ड्यूटी दे रहे हैं। इसके बाद मेयर राजेश कालिया और निगम कमिश्नर केके यादव ने मेडिकल हेल्थ ऑफिसर और सेनेटरी इंस्पेक्टर्स की मी¨टग बुलाई थी। वह फरलो करने और शहर की सफाई के बजाय अधिकारियों की कोठियों में काम करने पर दिशा-निर्देश जारी करने वाले थे कि ऐसे कर्मचारियों को निगम की तरफ से गैरहाजिरी लगाया जाएगा। मेयर का आरोप है कि फैसला होने से पहले ही सफाई कर्मचारी यूनियन के प्रधान कृष्ण चड्ढा मीटिंग रूम में जबरन घुसते ही उन्हें अपशब्द बोलने के साथ हाथापाई करने की कोशिश करने लगे।

पुलिस का रवैया चौकाने वाला : मेयर

मेयर राजेश कालिया का कहना है कि पुलिस हाथापाई मामले में कार्रवाई नहीं कर रही है। यह पुलिस का चौकाने वाला रवैया है। प्रशासक से मिलकर पुलिस विभाग के आला अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने की शिकायत की जाएगी। पुलिस को रिपोर्ट का इंतजार डीएसपी के पीआरओ चरणजीत सिंह विर्क का कहना है कि मेयर राजेश कालिया की शिकायत के आधार पर डीडीआर दर्ज कर लीगल ओपिनियन के लिए भेजा गया है। रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!