चंडीगढ़, जेएनएन। बंगाल चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (BJP) की हार पर चंडीगढ़ कांग्रेस नेताओं ने खुशी जाहिर की है। हालांकि कांग्रेस पार्टी को इस चुनाव में करारी हार मिली है। बावजूद इसके चंडीगढ़ कांग्रेस अध्यक्ष सुभाष चावला कहना है कि कोरोना के इस कठिन दौर में अच्छी खबर बंगाल से मिल रही है। उन्होंने कहा कि चुनाव परिणाम में कौन जीता कौन हारा इससे कोई लेना देना नहीं। किस पार्टी को कितनी सीटें मिली हैंकिसको कितनी सीटें मिली कोई चिंता नहीं है।  

चावला ने कहा की सभी को इस बात कि खुशी है कि बंगाल में भाजपा हार गई है। अगर यह बंगाल में जीत जाते तो घमंडी तो थे ही निरकुंश भी हो जाते। अब तो सवाल यह भी उठने शुरू हो गए थे कि भाजपा के जीतते ही क्या देश में लोकतंत्र बचेगा भी की नहीं। चावला ने आरोप लगाया कि गृहमंत्री अमित शाह ने जिस तरह इस चुनाव में संविधान का दुरपयोग विपक्षी पार्टियों के लिए किया वे सब के सामने हे।

देश की जनता में इस बात को लेकर रोष है कि प्रधानमंत्री ने बंगाल चुनाव जीतने के लिए कोरोना जैसी भयंकर महामारी रोकने के बजाए बंगाल में चुनावी रैलियां की। जिस वजह से हजारों लोगों को कोरोना से अपनी कीमती जिंदगी से हाथ धोना पड़ा। आज अगर देश में कोरोना का प्रपोक न होता और लोग इससे त्रस्त न होते तो अब तक पूरे भारत मे मिठाइया बंट रही होती।

चावला ने कहा की अब पूरे देश में भाजपा के खिलाफ, उससे भी ज्यादा प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह के विरोध चल रहा है और आने वाले दिनों में और तीव्र विरोध देश के नागरिकों द्वारा किया जाएगा। अब आने वाला हर चुनाव भाजपा हारेगी यह निश्चत है। अब अगला मुकाबला चंडीगढ़ में होगा और आने वाले नगर निगम चुनाव में भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ेगा। जिस तरह चंडीगढ़ नगर निगम और गृह मंत्रालय के अधीन चंडीगढ़ प्रशासन लोगों की अनदेखी कर रहा है। चंडीगढ़ में भी भाजपा का हश्र बंगाल जैसा ही होगा।