जागरण संवाददाता, चंडीगढ़ : साइकिल चलाने वालों से मंगलवार को शुल्क लेना शुरू हो गया है। लेकिन अभी भी डॉकिग स्टेशन पर साइकिलों की कमी है। इस प्रोजेक्ट को चलाने वाली स्मार्ट कंपनी के अनुसार शुल्क चार्ज करने का फायदा यह हुआ है जो पहले निश्शुल्क साइकिल ले जाकर कई कई घंटे अपने पास रख रहे थे अब वह अपनी जरूरत के अनुसार ही साइकिल चलाकर वापस डॉकिग स्टेशन पर रखने लग जाएंगे। पिछले माह से अब तक कई लोगों ने साइकिलों को नुकसान पहुंचाया है। स्मार्ट कंपनी के अनुसार अब साइकिलों पर लाक के बार कोड को इस तरह से लगाया जा रहा है कि उसे जल्दी से कोई फाड़ न सके। वहीं नगर निगम प्लान बना रहा है कि एक अक्तूबर को नगर निगम के 75 कर्मचारी साइकिल पर सेक्टर-17 से सुखना लेक तक जाएंगे। ऐसा साइकिल को प्रोमोट करने के लिए किया जा रहा है। नगर निगम के अनुसार आजादी का अमृत महोत्सव के आयोजन के तहत इसका आयोजन किया जा रहा है। मालूम हो कि स्मार्ट कंपनी की ओर से आधा घंटा साइकिल चलाने के लिए 10 रुपये चार्ज करने का शुल्क तय किया गया है। 12 सितंबर को इस प्रोजेक्ट को शुरू किया गया था लेकिन शुरुआती दिनों में ही तकनीकी दिक्कत के कारण साइकिल लेने के बाद लॉक नहीं लग रहा था जिस कारण कंपनी ने यह निर्णय लिया था कि शुल्क चार्ज नहीं किया जाएगा। इस समय इस प्रोजेक्ट के तहत शहर में 155 डॉकिग स्टेशन पर 1250 साइकिल चलाने के लिए रखी गई है। स्मार्ट सिटी के अनुसार अब अगले माह दूसरे से इसके तहत 1250 साइकिलें और चलाई जाएगी।

Edited By: Jagran