राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। पंजाब कांग्रेस में सीएम फेस को लेकर घमासान मचा हुआ है। इस बीच मेडिकल एजुकेशन व सामाजिक सुरक्षा एवं न्याय मंत्री राजकुमार वेरका ने कहा कि चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब के सीएम हैं और आने वाले समय में भी सीएम हो सकते हैं, लेकिन पार्टी ने संयुक्त रूप से चुनाव लड़ने का फैसला किया है।

वेरका ने गत दिवस वर्चुअल रूप से पत्रकारों से बातचीत की। कांग्रेस में मुख्यमंत्री का चेहरा कौन होगा, इस सवाल पर वेरका ने कहा कि चरणजीत सिंह चन्नी एससी चेहरा हैं। नवजोत सिंह सिद्धू जट्ट चेहरा हैं और सुनील जाखड़ हिंदू चेहरा। पार्टी के पास मुख्यमंत्री के लिए चेहरों की कोई कमी नहीं है। चन्नी मुख्यमंत्री हैं और आने वाले समय में भी मुख्यमंत्री हो सकते हैं, लेकिन पार्टी ने संयुक्त रूप से चुनाव लड़ने का फैसला किया है।

एक अन्य सवाल के जवाब में वेरका ने कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू को अकाली नेता बिक्रम सिंह मजीठिया के खिलाफ लड़ाना या न लड़ाना, यह फैसला पार्टी हाईकमान ने करना है। सिद्धू ही नहीं किसने कहां से चुनाव लड़ना है यह फैसला भी पार्टी हाईकमान ही करेगा।

अगस्त 2020 में हुए 63.91 करोड़ रुपये के पोस्ट मैट्रिक घोटाले पर उन्होंने कहा कि यह फाइल अभी बंद नहीं हुई है। घोटाले से संबंधित तीनों विभागों को दोषियों के खिलाफ पर्चा दर्ज करने के निर्देश दिए हैं। मेडिकल एजुकेशन के पास छह केस थे। इसमें पांच से लेकर 50 लाख रुपये तक की रिकवरी की गई है। यह घोटाला टेक्निकल एजुकेशन और उच्च शिक्षा से भी जुड़ा हुआ है। इन विभागों को भी निर्देश दिए गए है कि दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई की जाए। आदेश के बावजूद एफआइआर दर्ज न होने पर उन्होंने कहा कि दोषी कालेजों को शो-काज नोटिस दिए जा चुके हैं। कई कालेजों ने अपना जवाब दिया है और कई कालेजों का जवाब अभी नहीं मिला है। हालांकि घोटाले में पूर्व कैबिनेट मंत्री साधू सिंह धर्मसोत का नाम होने व इस मामले में मुख्य सचिव की जांच रिपोर्ट जारी नहीं होने के मामले में उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।

Edited By: Kamlesh Bhatt