जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। एक के बाद एक और अब तक कुल चार ठगी की शिकायतें मिल चुकी हैं। यह शिकायतें शहर की एक महिला के खिलाफ पुलिस को मिली हैं। हालांकि आरोपित महिला पुलिस की कस्टडी में है। गिरफ्तारी के बाद भी उसके खिलाफ धोखाधड़ी की शिकायतों का सिलसिला जारी है।

खुद को चंडीगढ़ के प्रशासक का करीबी बताकर लोगों से एमआइजी के फ्लैट और कमर्शियल प्रॉपर्टी उनके नाम रि-अलॉट करवाने के नाम पर करोड़ों रुपये की ठगी करने वाली महिला सेक्टर -49 की मंजीत कौर को पुलिस ने गिरफ्तार किया है और अभी वह रिमांड पर चल रही हैं। मंजीत कौर के खिलाफ शनिवार एक व्यक्ति ने एसएसपी को शिकायत दी। शिकायतकर्ता इंडस्ट्रियल एरिया में रहने वाले धर्मेद्र ने मंजीत कौर पर फ्लैट के नाम पर एक लाख 80 हजार रुपये ठगने का आरोप लगाया है। अब मामले की जांच एसएसपी कुलदीप सिंह चहल की तरफ से मार्क होने के बाद संबंधित इंडस्ट्रियल एरिया थाना पुलिस जांच करेगी। आर्थिक अपराध शाखा के हत्थे चढ़ने के बाद मंजीत कौर के खिलाफ अब तक तीन शिकायतें आ चुकी हैं। तीनों शिकायतों की जांच पुलिस कर रही हैं। आरोपित महिला को रिमांड खत्म होने के बाद उसे कोर्ट में पेश किया जाएगा।

शिकायतकर्ता धर्मेद्र ने बताया कि साल 2019 में महिला मंजीत कौर से मुलाकात हुई थी। उसने खुद को हाउसिंग बोर्ड अलॉटमेंट कमेटी की सदस्य बताया था। उसने कहा कि प्रशासक से उसकी सीधी बातचीत है। मौलीजागरां में उसके नाम हाउसिंग बोर्ड का एक फ्लैट अलॉट करवा देगी। इसके बाद दो लाख 50 हजार में सौदा तय हुआ। महिला ने मार्च 2020 में कहा कि एक लाख 80 हजार रुपये जमा करवाने के बाद प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। फ्लैट अपने नाम पर होने के बाद बकाया पैसा देना होगा। इसके बाद उसने बैंक के माध्यम से एक लाख 80 हजार रुपये ले लिया था। महिला की गिरफ्तारी की जानकारी मिलने के बाद धर्मेंद्र ने अपने साथ हुई ठगी की शिकायत एसएसपी को दी। इससे पहले भी सेक्टर-38 के रहने वाले सुनील शर्मा और विनोद कश्यप ने भी मंजीत कौर पर ठगी करने के आरोप लगाया है।

 

Edited By: Ankesh Thakur