जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। शहर में लगातार संक्रमित मामले बढ़ते जा रहे हैं। जिन लोगों ने अब तक टीकाकरण पूरा नहीं किया है, ऐसे लोगों की कोरोना से मौत के मामले सामने आ रहे हैं। इसके बावजूद हेल्थ केयर वर्कर बूस्टर डोज नहीं लगवा रहे हैं, जो कि एक चिंता का विषय है। अभी तक मात्र 10 फीसद हेल्थ केयर वर्करों ने बूस्टर डोज लगवाई है। बता दें 10 जनवरी से हेल्थ केयर वर्कर फ्रंटलाइन वर्कर और वरिष्ठ नागरिकों के लिए बूस्टर डोज लगाने की शुरुआत की गई थी। इसके अलावा मात्र 11 फीसद फ्रंटलाइन वर्कर और 35. 21 फीसद वरिष्ठ नागरिकों ने अब तक बूस्टर डोज लगवाई है।

स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों की माने तो अब तक 126.82 फीसद यानी 10,69,074 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है। 99.64फीसद यानी 8,39,941 लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज लग चुकी है। केंद्र से स्वास्थ्य विभाग को 18 साल से अधिक उम्र के 8.43 लाख लोगों को, 26, 237 हेल्थ केयर वर्कर, 22,428 फ्रंटलाइन वर्कर, 60 साल से अधिक उम्र के 15,600 और 15 से 18 साल तक के 72 हजार किशोरों को वैक्सीन की दोनों डोज लगाने का लक्ष्य दिया गया है। स्वास्थ्य निदेशक डॉ सुमन सिंह ने कहा कि हेल्थ केयर वर्कर और फ्रंट लाइन वर्कर को बूस्टर डोज लगाने के लिए विभाग की ओर से जल्द ही अपने स्तर पर सर्कुलर जारी किया जाएगा।

इतने लोगों का किया गया टीकाकरण

शनिवार को शहर में 18 साल से अधिक उम्र के 2825 लोगों का कोरोना टीकाकरण किया गया। 2645 हेल्थ केयर वर्कर, 2474 फ्रंटलाइन वर्कर और 5493 वरिष्ठ नागरिकों का टीकाकरण किया गया। इसके अलावा 15 से 18 साल तक के 449 किशोरों का टीकाकरण किया गया।

यह भी पढ़ें - Punjab Election 2022: कैप्टन अमरिंदर ने हाकी टीम के पूर्व कप्तान अजीतपाल को नकोदर से चुनाव मैदान में उतारा, उनके बारे में जानें

Edited By: Pankaj Dwivedi