जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। नगर निगम कमिश्नर अनिंदिता मित्रा एक्शन मोड में रहती हैं। हाल ही में उन्होंने ठेकेदारों को हिदायत दी थी कि जो टेंडर उन्होंने लिए हैं उन कार्यों को समय पर पूरा करें। ऐसे में एक बार फिर कमिश्रर ने अधिकारियों को भी यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि अस्थायी कर्मचारियों को अक्टूबर का वेतन दिवाली से पहले मिल जाना चाहिए।

वहीं, कमिश्नर ने यूनियन लीडर्स को भी सख्त आदेश जारी किए हैं। अनिंदिता मित्रा ने कहा कि ड्यूटी टाइम पर सभी कर्मचारी वर्दी पहने अगर ऐसा न हुआ तो नियम के अनुसार कार्रवाई की जाएगी। शहर में सफाई कर्मचारियों के वर्दी पहननी अनिवार्य है जिनमें से कई कर्मचारी वर्दी नहीं पहनते हैं। कमिश्नर ने सभी यूनियन लीडर्स की समस्याएं सुनने के बाद संबंधित विभागों के प्रमुख अधिकारियों को नियम के अनुसार काम करने की हिदायत भी दी है। बैठक में 13 गांव से ट्रांसफर हुए सफाई कर्मचारियों का मामला भी उठा। जिसमें यूनियन लीडर्स ने कहा कि उन्हें साबुन और तेल की सुविधा नहीं मिल रही है।

जोन-2 के ठेकेदार का 70 हजार का चालान

नगर निगम कमिश्नर अनिंदिता मित्रा के निर्देश पर हर दिन शहर की पेड पार्किंगों को चेक करने के लिए अलग अलग टीमों का गठन किया गया है। नगर निगम के अनुसार 8 से 17 अक्टूबर को पार्किंग चेकिंग की गई है। इस दौरान जोन-1 के अंतगर्त एक पार्किंग में खामियां मिलने पर ठेकेदार का दस हजार रुपये का चालान काटा गया है। यहां पर निरीक्षण के दौरान अव्यवस्थित पेड पार्किंग मिली। जबकि जाेन-2 के तहत सेक्टर-5, 8, 17 और 22 में कई तरह की वायलेशन मिली है, जिसमें अव्यवस्थित पार्किंग के अलावा कर्मचारी बिना वर्दी के मिले। इस पर 70 हजार रुपये के चालान काटे गए हैं। कमिश्नर के अनुसार वायलेशन करने वालों से सख्ती से निपटा जाएगा।

Edited By: Ankesh Thakur