जेएनएन, चंडीगढ़। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री राधा मोहन सिंह ने सबसे अधिक अन्न उत्पादन के लिए हरियाणा और पंजाब के किसानों को शाबाशी तो दी, लेकिन साथ ही पानी के अधिक दोहन पर चिंता भी जताई। केंद्रीय मंत्री ने दोनों राज्यों से कहा कि दोनों प्रदेश पानी की बर्बादी रोकने की दिशा में काम करें। उन्होंने खेतों में अवशेष जलाने के बजाय तकनीक और मशीनों द्वारा उसे नष्ट करने के लिए प्रेरित किया।

केंद्रीय मंत्री राधा मोहन सिंह गत दिवस यहां सीआइआइ नॉर्दन रीजन चंडीगढ़ द्वारा आयोजित एग्रोटेक मेले के उद्घाटन समारोह में बोल रहे थे। सिंह ने कहा कि हर खेत को पानी देने की सिंचाई परियोजना के तहत पंजाब ने 18 जिलों में से चार और हरियाणा ने 14 जिलों में से सात के लिए परियोजनाएं तैयार कर रही हैं। दोनों राज्यों ने मार्च 2017 तक कंपलीट कार्य योजना तैयार करने का भरोसा केंद्र को दिलाया है।

हरियाणा और पंजाब में चार गोकुल ग्र्राम बनेंगे

केंद्रीय कृषिमंत्री ने कहा कि पंजाब सरकार द्वारा राष्ट्रीय गोकुल मिशन में दो गोकुल ग्रामों की स्थापना पटियाला के रोनी एवं नाभा में होगी। हरियाणा में दो गोकुल ग्राम हिसार में साहीवाल और गिद गांव में स्थापित होंगे।

पढ़ें : SYL पर हरियाणा की पार्टियों के नेता राष्ट्रपति और पीएम से लगाएंगे गुहार

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!