जागरण संवाददाता चंडीगढ़। चंडीगढ़ पुलिस के पास दो ऐसे शिकायतें आई है जिससे पुलिस विभाग सकते में है। दोनों घटनाएं रात में हुई हैं और पुलिस दोनों मामलों में जांच कर रही हैं। देर रात हल्लोमाजरा लाइट पॉइंट पर एक कैब ड्राइवर पुलिस कंट्रोल रूम पर कॉल कर अपनी गाड़ी स्नैच होने की सूचना दी। कैब ड्राइबर ने बताया कि दो लोगों पर उसकी गाड़ी छीनकर फरार हो गए हैं। सूचना पाकर सेक्टर-31 थाना और आपरेशन सेल की टीम मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने मामले में डीडीआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी। वहीं पुलिस ने कैब ड्राइबर का मेडिकल करवाया तो उसने शराब पी हुई थी, इस बात की पुष्टि भी हुई है। एसपी सिटी केतन बंसल ने कहा कि अब तक की जांच में मामला संदिग्ध आया है, कई एंगिल पर जांच जारी है।

जानकारी के अनुसार कैब ड्राइवर ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि वह हरियाणा के कुरुक्षेत्र का रहने वाला है। देर शाम कुरुक्षेत्र से दो लोगों ने चंडीगढ़ आने के लिए उसकी कैब हायर की थी। देर रात तकरीबन एक बजे दोनों लोगों को चंडीगढ़ छोड़ने के बाद वह कुरक्षेत्र लौट रहा था। जैसे ही वह हल्लोमाजरा लाइट प्वाइंट पर पहुंचा तभी दो लोगों ने उसकी गाड़ी को रोक और अचानक उस पर हमला कर उसे गाड़ी से बाहर निकाल लिया। इसके बाद आरोपित उसकी एक्सयूवी कार लेकर फरार हो गए।

वहीं, दूसरे मामले में देर रात एक व्यक्ति गाड़ी से 10 लाख रुपये चोरी की वारदात की सूचना कंट्रोल रूम में दी। सूचना मिलते ही डीएसपी गुरमुख सिंह सहित सेक्टर 26 थाना प्रभारी जसबीर सिंह टीम के साथ घटना स्थल पर पहुंचे। इसके बाद उन्होंने शिकायतकर्ता के बयान दर्ज किए और जांच शुरू कर दी। लेकिन अगली सुबह शिकायतर्ता अपने लिखित बयान से पलट गया। शिकायकर्ता ने कहा कि उसका दस लाख नहीं बल्कि एक लाख रुपयों की चोरी हुआ है। इसके बाद पुलिस मामले को संदिग्ध मानकर जांच में लगी है।

हरियाणा के सोनीपत निवासी गुलशन कुमार ने मामले में शिकायत दी है। शिकायतकर्ता ने बताया कि वह देर रात करीब 12 बजे घर से चंडीगढ़ के लिए निकला था। सेक्टर 27 में रहने वाले दोस्त के घर सुबह चार बजे पहुंचा। उसने दोस्त के घर के सामने गाड़ी पार्क की थी। गुलशन कुमार ने बताया कि जब वह सुबह बाहर निकला तो देखा की उसकी i20 कार के शीशा टूटा हुआ था और गाड़ी में रखा कैश गायब था। 

दुकान खरीदने आया था, बोला गलतफहमी में पैसे ज्यादा बताए

शिकायतकर्ता गुलशन कुमार ने बताया कि वह चंडीगढ़ में दुकान खरीदने आया था। जिसके लिए एडवांस के तौर पर वह कैश लेकर आया था। हालांकि लिखित शिकायत में कुल दस लाख रुपये बताने पर बोला कि गलतफहमी में ज्यादा पैसे बता दिए थे। जबकि उसकी कार में कुल 110000 रुपये ही थे।

Edited By: Ankesh Thakur