चंडीगढ़, जेएनएन। एबीवीपी पंजाब यूनिवर्सिटी इकाई ने कैंपस में एकत्रित होकर फिजिकल डिस्टेंसिंग की पालना करते हुए यूजीसी और एमएचआरडी द्वारा जारी की गई गाइडलाइंस का स्वागत किया। जिसमें फाइनल सेमेस्टर के छात्रों की परीक्षा करवाने की बात की गई है।

एबीवीपी पंजाब विश्वविद्यालय इकाई संयोजक जतिन सिंह ने बताया कि यूजीसी द्वारा सराहनीय निर्णय लिया गया है। यह गाइडलाइंस फाइनल सेमेस्टर के छात्रों को मौका देती है अपने अंक सुधारने का और बढ़ाने का। इससे उनको वर्तमान में कोई तकलीफ न हो। छात्रों का मूल्याकन बहुत जरूरी है ताकि वह अपनी क्षमता के अनुसार अंक प्राप्त कर सके। कोरोना के कारण पैदा हुआ हालातों को देखते हुए परीक्षा का माध्यम तय करना चाहिए। यदि हालात सामान्य नही होते तो मुल्यांकन के ऑनलाइन विकल्प खोजने चाहिए, क्योंकि छात्रों की सेहत सबसे जरूरी है।

अजय सूद मंत्री एबीवीपी चंडीगढ़ ने कहा कि मास प्रमोशन छात्रों के साथ अन्याय है। बहुत से छात्र अपने अंक बढ़ाने चाहते है और मेरिट लिस्ट में आना चाहते है, उनके लिए यह मौका बहुत ज़रूरी है । छात्रों के भविष्य को देखते हुए एक बढ़िया फैसला लिया है।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!