जागरण संवाददाता, मोहाली: 60 हजार से अधिक प्रवासियों को अपने-अपने घरों में भेजने की चुनौती का सामना करते हुए प्रशासन ने एक हफ्ते में लगभग 15 हजार लोगों को घर वापिस भेज दिया है। डीसी गिरीश दयालन ने बताया कि आकड़ों पर काम किया जा रहा है और बाहरी प्रवासियों के लिए जिले अनुसार भेजने का शेड्यूल तैयार किया है। आने वाले समय में गेहूं की बिजाई दौरान रोजगार के मौके के साथ-साथ मजदूरों की इंडस्ट्रियल व निर्माण क्षेत्र में जरूरत होने के कारण घर वापिस न जाने वाले प्रवासियों की गिनती बढ़ रही है। रोजाना 30 प्रतिशत प्रवासी वापिस जाने से इन्कार कर रहे हैं। फिलहाल उन सभी को वापस भेजा जा रहा है, जा वापस जाने की इच्छा रखते हैं। दरअसल मोहाली प्रशासन की ओर से निर्धारित की गई मंजिल पर जाने की इच्छा रखने वाले रोपड़ व नवाशहर से आने वाले प्रवासियों के लिए भी मोहाली से बोìडग सुविधा में बढ़ावा करना पड़ रहा है। इस तरह मोहाली के बहुत कम गिनती के लोग जो उस स्थान पर जाना चाहते हैं, जो स्थान जिला प्रशासन के शेड्यूल में नहीं है को पड़ोसी जिलों से उस मंजिल को जाने वाली रेलगाड़ियों में रवाना किया जा रहा है। 225 प्रवासियों को बुधवार बसों के जरिए सरहिंद के लिए भेजा गया, जहा उनको मनीपुर व आध्रप्रदेश के लिए रवाना किया जाएगा, जबकि लगभग 900 और शुक्रवार को मध्यप्रदेश जाएंगे। प्रवासियों की हो रही दोहरी जाच

इसके अलावा प्राइवेट वाहनों पर वापस जाने की माग कर रहे लोगों को स्क्रीनिंग के बाद परमिशन दी जा रही है। एक बार कलेक्शन सेंटर में और एक बार रेलवे स्टेशन पर सभी प्रवासियों की दोहरी जाच की जा रही है। उन्होंने कलेक्शन सेंटरों से रेलवे स्टेशन तक फ्री बसों में भेजा जाता है और जिला प्रशासन द्वारा उनको खाना मुहैया करवाया जाता है। वहीं 8वीं स्पेशल रेलगाड़ी मोहाली रेलवे स्टेशन से वीरवार को बिहार के लिए रवाना हुई, जिसमें 1501 प्रवासी मजूदरों को वापिस अपने राज्य में भेजा गया है। रेलगाड़ियों में डिब्बों की गिनती को बढ़ाया गया है और यह कटिहार, पटना, चंपारन व बरौनी में रुककर जाएंगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!