मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जेएनएन, चंडीगढ़। भाजपा ने पंजाब की कैप्‍टन अमरिंदर सिंह सरकार को किसान विरोधी करार दिया है। पार्टी ने कहा कि है कि पंजाब में कैप्‍टन अमरिंदर सिंह के अाठ माह के शासन में 323 किसान आतमहत्‍या कर चुके हैं। यह सरकार अन्‍य मोर्चे पर भी पूरी तरह नाकाम रही है।

भाजपा के प्रदेश सचिव विनीत जोशी व उपाध्यक्ष हरजीत सिंह ग्रेवाल ने कहा कि कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में आठ माह में 323 किसानों की आत्महत्या कर ली। सरकार के सभी मंत्री भी अपने काम में फेल साबित हो रहे हैं। खास तौर पर स्थानीय निकास मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू व शिक्षा मंत्री अरुणा चौधरी व सेहत मंत्री ब्रह्म महिंदरा से लोग त्रस्त हैं।

उन्होंने कहा कि डेंगू को रोक पाने में निकाय विभाग व सेहत विभाग पूरी तरह से फेल रहा है। फॉगिंग से लेकर साफ-सफाई भी निकाय विभाग नहीं करवा पाया। यही हाल शिक्षा विभाग का रहा है। आधा सेशन बीत जाने के बावजूद मिडल व सीनियर सेकेंडरी स्कूलों के आठ लाख विद्यार्थियों को वर्दियां उपलब्ध नहीं करवाई जा सकीं।

यह भी पढ़ें: हत्‍यारा चाचा बोला-बच्चों वो देखो पहाड़ी... , और मार दी गोली

उन्‍होंने कहा कि किसानों का पूर्ण कर्ज माफी का वायदा सरकार आज तक पूरा नहीं कर पाई है। किसान हर तरफ से मर रहा है। कर्ज माफी की आस में किसान ने दिसंबर 2016 से कर्ज वापस करना बंद कर दिया, 93778 किसान डिफाल्टर हो चुके हैं। किसानों के खाद व बीज के लिए कर्ज देने वाली सहकारी संस्थाएं अपने लगभग सात हजार कर्मचारियों को पिछले छह माह से वेतन नहीं दे पाई हैं।

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान ने पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह से मांगी मदद, जानें क्या है कारण

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के गृह जिले पटियाला में अवैध माइनिंग को रोकने की कोशिश करने वाले जीएम माइनिंग पर हमला किया गया। इसमें कांग्रेस विधायक ठेकेदार मदनलाल जलालपुर का नाम हमले में आ रहा है। पुलिस ने कांग्रेस के दबाव में मामला भी दर्ज नहीं किया।

 कर्ज से परेशान किसान ने की खुदकशी

बरनाला : कर्ज से परेशान होकर गांव ताजोके किसान केवल सिंह ने जहर निगल जान दे दी। उसकी पत्नी महेंद्र कौर ने बताया कि उसके पति दो एकड़ जमीन के मालिक थे। उन्होंने पंजाब नेशनल बैंक सहित दुकानदारों से करीब १० लाख का कर्ज लिया हुआ था। कर्ज वापस नहीं कर पाने के चलते वह परेशान रहते थे। इस कारण उसके पति ने कोई जहरीला पदार्थ लाकर निगल लिया।

 

Posted By: Sunil Kumar Jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!