चंडीगढ़, राज्‍य ब्‍यूरो। Captain Amarinder Singh vs Congress: पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा नई पार्टी बनाने घोषणा के बाद कांग्रेस की टेंशन बढ़ गई है। पंजाब में पार्टी में किसी तरह की बगावत को रोकने के लिए कांग्रेस के पूर्व राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष राहुल गांधी सक्रिय हो गए हैं। राहुल गांधी ने पंजाब के उपमुख्यमंत्री और गृह मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा के बाद वीरवार को मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी के साथ बैठक की। दोनों नेताओं के बीच करीब ढाई घंटे तक बातचीत होने की खबर है।

बैठक के बाद मुख्‍यमंत्री चन्‍नी पंजाब रवाना हो गए। राहुल गांधी से मुलाकात के बाद चन्‍नी ने किसी तरह की टिप्‍पणी नहीं की। बताया जाता है कि राहुल गांंधी और चन्‍नी के बीच पार्टी में असंतुष्‍ट नेताओं और कैप्‍टन अमरिंदर सिंह के करीबी नेताओं के बारे में चर्चा की। ऐसे नेताओं पर नजर रखने के साथ ही पार्टी में टूट या बगावत को रोकने के उपायों पर भी चर्चा हुई। बताया जाता है कि राहुल गांधी व चन्‍नी के बीच  राज्‍य के हालातोंं और पंजाब कांग्रेस अध्‍यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा उठाए जा रहे मुद्दों पर भी चर्चा हुई।  बैठक में नशा, बेअदबी और बीएसएफ का सीमा क्षेत्र में दायरा बढ़ाने के मुद्दे पर भी चर्चा की खबर है।   

कैप्टन के कदम से कांग्रेस में पंजाब से लेकर दिल्ली तक हड़कंप

बताादें कि राहुल गांधी आज मुलाकात के लिए दिल्‍ली बुलाया था। बताया जा रहा है कि इस बैठक में कैप्टन की ओर से नई पार्टी बनाए जाने के बाद उत्पन्न होने वाली राजनीतिक स्थितियों पर चर्चा हुई। भले ही कैप्टन ने बुधवार को पार्टी का एलान नहीं किया लेकिन वह जल्द ही इस मुद्दे पर अगला कदम उठा सकते हैं। कैप्टन कांग्रेस के कई विधायकों के संपर्क में हैं।

राहुल आज करें मुख्यमंत्री चन्नी के साथ मुलाकात, ताजा राजनीतिक हालात पर होगी बात

इससे पहल राहुल ने सुखजिंदर सिंह रंधावा के साथ बुधवार दोपहर के समय मुलाकात की। पार्टी सूत्रों के अनुसार राहुल ने कैप्टन की ओर से सीमा सुरक्षा को लेकर उठाए जा रहे सवालों व पाकिस्तानी पत्रकार अरूसा आलम के मुद्दे पर रंधावा से बातचीत की। रंधावा ने ट्वीट कर कहा कि बैठक काफी सौहार्दपूर्ण माहौल में हुई। इस बैठक के बाद ही राहुल ने मुख्यमंत्री चन्नी को दिल्ली बुलाया है।

चार पूर्व मंत्रियों से भी मिले राहुल, बलबीर सिद्धू ने पूछा मेरी गलती क्या थी

इससे पहले राहुल गांधी ने मंगलवार को कैप्टन के करीबी उन चार पूर्व मंत्रियों के साथ भी मुलाकात की जिन्हें चन्नी की कैबिनेट में जगह नहीं मिली थी। पार्टी सूत्रों के अनुसार पार्टी हाईकमान को डर है यह चारों पूर्व मंत्री कैप्टन के नई पार्टी बनाने पर उनके साथ जा सकते हैं। इसे लेकर पार्टी के प्रदेश प्रभारी हरीश चौधरी ने राहुल गांधी के साथ बात की और चारों पूर्व मंत्रियों बलबीर सिंह सिद्धू, राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी, सुंदर शाम अरोड़ा और साधू सिंह धर्मसोत को दिल्ली बुलाया गया।

सूत्रों के अनुसार राहुल व हरीश चौधरी के साथ बैठक में सुंदर शाम अरोड़ा और बलबीर सिद्धू ने मंत्रिमंडल में जगह न दिए जाने को लेकर राहुल गांधी से सवाल किया कि आखिर उनका क्या कसूर था? बलबीर सिद्धू ने कोविड वैक्सीन निजी अस्पतालों को बेचने के मामले पूर्व चीफ सेक्रेटरी विनी महाजन का नाम लिया और राहुल के सामने साक्ष्य भी पेश किए। काबिलेगौर है कि पंजाब सरकार पर केंद्र से कम कीमत पर मिलने वाली वैक्सीन को उच्च दाम पर निजी अस्पतालों को बेचने के आरोप लगे थे और उस समय बलबीर सिद्धू सेहत मंत्री थे।

Edited By: Sunil Kumar Jha