जासं, बठिडा : रिटायर्ड व सीनियर सिटिजन ब्रदरहुड ने एक निजी अस्पताल में स्वास्थ्य जागरूकता कार्यक्रम करवाया। इस दौरान अस्पताल की न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. रूबी चोपड़ा ने बताया कि उम्र बढ़ने के साथ-साथ वृद्धावस्था में कई न्यूरोलॉजिकल अनियमितताएं शरीर को घेर लेती हैं। जैसे की भूलने की आदत, हाथों का कांपना, दौरा पड़ना, सिरदर्द, अधरंग का अटैक इत्यादि समस्याएं अक्सर इस अवस्था में देखने को मिलती हैं। हमें कभी भी ऐसी समस्या आने पर इन्हें नजरअंदाज नहीं करना चाहिए, बल्कि तुरंत चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए। अपने ब्लड प्रेशर की नियमित जांच करवानी चाहिए, मोटापे को घटाना चाहिए, मीठे का उपयोग बंद करना चाहिए और शराब व सिगरेट को नजदीक नहीं आने देना चाहिए और प्रतिदिन शारीरिक कसरत करनी चाहिए। ऐसा करने से ही हम अपने जीवन के इस स्वर्णिम पड़ाव को अच्छे से जी सकते हैं। आहार विशेषज्ञ डॉ. रेनुका मधोक ने तंदुरुस्त रहने में संतुलित भोजन के रोल के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी दी। उम्र के इस पड़ाव पर क्या खाना चाहिए, क्या नहीं कहना चाहिए और कब खाना चाहिए के बारे में बहुत ही सरल भाषा में विस्तृत जानकारी दी। उम्र के इस पड़ाव पर शरीरिक गतिविधि का कम होना व हड्डियों की घनत्व में गिरावट, पाचन तंत्र में गड़बड़ी, निजी स्वाद, दृष्टि का कम होना व जोड़ो की समस्याएं आम बात है। उन्होंने कहा की हमें अपने भोजन में पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन, फाइबर, पोटाशियम को सम्मिलित करके संतुलित भोजन करना चाहिए तथा दिन में अधिकतम पानी पीने के साथ-साथ शारीरिक गतिविधि करके हम स्वस्थ रह सकते हैं। इस अवसर पर प्रो. अशोक गुप्ता, सचिव मक्खन लाल मंगल, कैशियर रमेश गर्ग, कल्चरल सेक्रेटरी कुलदीप धींगड़ा, प्रेस सचिव एमआर जिदल, उपप्रधान नरेश मोहन बांसल, सतपाल गोयल, डॉ. विवेक जैन, सीता राम मितल, सीएम अग्रवाल, सुभाष गुप्ता, पवन जिदल, के विश्वनाथन, अशोक सिगला, ओपी सिडाना, रमेश वधवा, इंदरजीत सिंह विरदी, हरमंदिर सिंह सिद्धू, अश्वनी बेरी, हरभजन सिंह नेगी, रमेश कुमार गुप्ता, कुलभूषण गुप्ता, इंदरजीत गुप्ता, जीसी गोयल व रमेश बांसल उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!