संस, नथाना/गोनियाना मंडी : भारतीय किसान यूनियन एकता सिद्धूपुर ब्लॉक बठिडा की ओर से नरमे की सरकारी खरीद शुरू करवाने के लिए मार्केट कमेटी दफ्तर गोनियाना मंडी में दिया धरना शुक्रवार को तीसरे दिन भी जारी रहा।

धरने को संबोधित करते हुए ब्लॉक के महासचिव सुखदर्शन सिंह ने बताया कि पिछले एक महीने से नरमा मंडी में आ चुका हैं परंतु नरमे की सरकारी खरीद गोनियाना मंडी में अभी तक शुरु नहीं हुई। उन्होंने कहा कि नरमे का सरकारी रेट 5450 रुपये है परंतु किसानों से प्राइवेट व्यापारी 4500 से 4700 रुपये प्रति क्विंटल नरमा खरीद रहे है। इससे 900 से 1000 प्रति क्विंटल किसान को घाटा पड़ रहा है। धरने के चलते दोपहर एक बजे तक किसान जत्थेबंदियों के नेताओं की निगम के अधिकारियों से मीटिग हुई और मीटिग के बाद निगम जनरल मैनेजर दिनेश कुमार ने धरने में आकर किसानों को भरोसा दिलवाया कि सोमवार 21 अक्टूबर से गोनियाना मंडी में पक्के तौर पर नरमे की खरीद शुरू कर दी जाएगी और किसान अपना नरमा सरकारी रेट पर बेच सकते हैं। किसान यूनियन के प्रधान कुलवंत सिंह ने ताया कि आने वाली 21 तारीख को सारे पंजाब में सरकारी खरीद शुरु करवाने के लिए पांच जिलों की ओर से निगम के बठिडा स्थित दफ्तर में भी धरना दिया जाएगा। इसके अलावा यूनियन की बठिडा जिले की टीम ने भारत द्वारा 16 देशों में किए जा रहे आरसीईपी समझौते का विरोध करते काका सिंह कोटड़ा की अगुवाई में डीसी बठिडा को मांग पत्र दिया और अल्टीमेटम दिया कि यदि भारत सरकार समझौते पर हस्ताक्षर करती हैं तो जत्थेबंदी इसका सख्त विरोध करेगी। इस दौरान नरमे की खरीद शुरू होने के दिए भरोसे के बाद धरना समाप्त कर दिया।

इस मौके सुखमंदर सिंह, मलकीत सिंह, जगसीर सिंह, बेअंत सिंह, गुरचरन सिंह, गगनदीप सिंह, जसकरण सिंह, अजायब सिंह, नछत्तर सिंह आदि शामिल हुए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!