जागरण संवाददाता, बठिडा: बठिडा पहुंचे पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश चौधरी, वित्तमंत्री मनप्रीत सिंह बादल व ट्रांसपोर्ट मंत्री अमरिदर सिंह राजा वड़िंग का ठेका मुलाजिमों ने विरोध किया। इस दौरान पुलिस ने उन्हें हिरासत में लेकर थर्मल थाने में बंद कर दिया और उन्हें समागम खत्म होने पर चौधरी के जाने के बाद रिहा किया गया।

इस दौरान राज्य प्रधान वरिदर सिंह व अमरीक सिंह ने कहा कि विभिन्न विभागों में आउट सोर्स, ठेका मुलाजिमों द्वारा विभाग में रेगुलर करने की मांग को लेकर सात सितंबर से नौ सितंबर तक पूर्व मुख्यमंत्री के शहर पटियाला तो अब मौजूदा मुख्यमंत्री के शहर मोरिडा में 75 दिन से संघर्ष चल रहा है, लेकिन सरकार द्वारा मुलाजिमों को रेगुलर नहीं किया जा रहा। इसके विरोध में ठेका मुलाजिमों द्वारा अब संघर्ष किया जा रहा है। उन्होंने पंजाब सरकार से मांग की कि ठेका मुलाजिमों की समूह केटेगरियों को नए एक्ट में शामिल कर उनको रेगुलर किया जाए। सीआइए के पूर्व इंचार्ज और एएसआइ के खिलाफ एलओसी जारी रिश्वत लेकर नशा तस्करों को छोड़ने आरोप में एसटीएफ की ओर से नामजद किए गए सीआइए वन के पूर्व इंचार्ज इंस्पेक्टर राजिंदर कुमार तथा एएसआइ जरनैल सिंह पिछले डेढ़ महीने से फरार चल रहे हैं। एसटीएफ ने अब उनके खिलाफ लुक आउट सुर्कलर (एलओसी) जारी कर दिया है। एसटीएफ के एआइजी हरप्रीत सिंह ने बताया कि जल्द ही इन दोनों आरोपित पुलिस मुलाजिमों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

बता दें कि दो दिन पहले ही दोनों मुलाजिमों की जायदाद के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए एसटीएफ ने बठिंडा, रामपुरा तथा तलवंडी साबो के तहसीलदार को पत्र लिखा था। बीती 22 नवंबर को डीएसपी एसटीएफ बठिंडा रेंज ने बठिंडा रामपुरा तथा तलवंडी साबो के तहसीलदार को पत्र लिखा है, जिसमें लिखा गया है कि इंस्पेक्टर रजिंदर कुमार और एएसआइ जरनैल सिंह के खिलाफ एसटीएफ थाना मोहाली में 14 अक्टूबर 2021 को भ्रष्टाचार एक्ट तथा नशा तस्करों को पैसे लेकर छोड़ने के आरोप में केस दर्ज किया गया था। दोनों पुलिस अधिकारियों के बारे में उन्हें पूरी जानकारी चाहिए। इंस्पेक्टर रजिंदर कुमार की बठिंडा अदालत में जमानत याचिका भी खारिज हो चुकी है तथा दोनों अधिकारी अभी सस्पेंड चल रहे हैं।

Edited By: Jagran