जासं, बठिडा : बठिडा में वीरवार देर रात रुक-रुक कर बारिश होती रही। बारिश व आसमान में धुंध के कारण तापमान में गिरावट आई। सुबह से ही बठिडा में मौसम ने करवट बदल ली थी। इसके बाद लोगों को पराली के धुएं से भी राहत मिली है। शहरवासी पिछले कुछ दिनों से जहरीली हवा से जूझ रहे थे। मगर वीरवार रात को बारिश ने न केवल मौसम के मिजाज को बदल दिया बल्कि वायु प्रदूषण में भी गिरावट ला दी। बारिश के कारण विजिबिलिटी साफ हो गई। वहीं मौसम साफ हो जाने से लोगों ने राहत की सांस ली। बठिडा की आबोहवा जहरीली हो गई है। पराली जलाने के मामलों में वृद्धि होने के चलते सांस लेना काफी मुश्किल हो गया है। वहीं मौसम का रुख बदलने से ठंड ने दस्तक दे दी है। वीरवार को हल्की बारिश हुई। इसके साथ ही ठंड बढ़ने से लोगों को स्वेटर-जैकेट तक निकालने पड़ गए। इस बारिश के बाद अधिकतम व न्यूनतम तापमान में अचानक 4 डिग्री तक गिरावट आ गई और ठंड ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया।

दूसरी तरफ मौसम में हुए अचानक से बदलाव से किसानों की परेशानी बढ़ गई। कपास की खेती करने वाले किसानों के लिए मौसम में बदलाव नुकसानदायक साबित हो सकता है। मौसम विभाग के अनुसार आने वाले दिनों में भी बारिश की संभावना है, जिसके बाद धुंध पड़ने के साथ-साथ मौसम भी साफ रहेगा। इसके अलावा लोगों को बारिश के साथ पराली के धुएं से भी निजात मिली।

आम तौर पर नवंबर को ठंड का महीना ही माना जाता है। बावजूद इसके पिछले कुछ बरसों से नवंबर में कोई खास ठंड नहीं पड़ती है। 15 नवंबर के आसपास हाफ स्वेटर पहनने लायक सर्दी ही होती रही है। इस बार मौसम के मिजाज समय से कुछ पहले ही बिगड़े नजर आए।

मौसम विभाग के डॉ. राज कुमार ने बताया कि हिमालयी क्षेत्र में सक्रिय हुए पश्चिमी विक्षोभ के कारण जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में पिछले 24 घंटों में बर्फबारी के कारण पंजाब, हरियाणा और दिल्ली एनसीआर सहित आसपास के इलाकों में न्यूनतम तापमान में दो से तीन डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गई है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!