गुरप्रेम लहरी, बठिडा : कोरोना के चलते चुनाव आयोग ने विधानसभा चुनाव में राजनीतिक दलों पर कई पाबंदियां लगा दी हैं। अब न तो जनसभा कर सकते हैं और न ही नुक्कड़ मीटिगें। जनसंपर्क भी सीमित समर्थकों के साथ ही किया जा सकता है। बदले चुनाव प्रचार में आईटी एक्सपर्ट की मांग बढ़ गई है। एक्सपर्टों ने कंपनियां बनाकर प्रत्याशियों को घर बैठे प्रचार के किए आधुनिक सुविधाएं देने के लिए एक लाख से लेकर 15 लाख रुपये तक के पैकेज तैयार कर लिए हैं। कुछ दावेदार ने तो ऐसी कंपनियों से सर्वे भी करा लिया है।

बढ़ती मांग को देखते हुए विभिन्न शहरों से आईटी कंपनियां बठिडा पहुंच गई हैं। कोरोना काल में चुनाव आयोग की सख्ती की वजह से आईटी एक्सपोर्ट की मांग बढ़ गई है। कम समय में अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचने के लिए प्रत्याशी और पार्टियां अब आईटी एक्सपर्ट की मदद ले रही हैं स्थानीय आईटी कंपनियों के साथ भी महानगरों में विभिन्न प्रकार के प्रमोशन करने वाली कंपनियों से संपर्क साध रहे हैं । इन कंपनियों की टीम पार्टियों से डील कर रही है।

बठिडा में सरूप चंद सिगला द्वारा बठिडा की एक आइटी कंपनी के साथ टाइअप किया गया है जबकि भुच्चो से शिअद के प्रत्याशी दर्शन सिंह कोटफत्ता द्वारा जालंधर से आईटी टीम को हायर किया है। भुच्चो से ही कांग्रेस के विधायक प्रीतम सिंह कोटभाई द्वारा भी बठिडा की आईटी टीम को हायर किया गया है। बठिडा शहरी हल्के से कांग्रेस के प्रत्याशी मनप्रीत सिंह बादल द्वारा चंडीगढ़ की टीम के साथ संपर्क किया गया है। सभी हलकों से सभी पार्टियों के उम्मीदवारों द्वारा किसी न किसी आईटी कंपनी को हायर कर रखा है। क्योंकि इस बार कोविड की पाबंदियों के चलते जंग इंटरनेट मीडिया के जरिए ही लड़ी जा रही है।

----

पैकेज में क्या क्या देती हैं कंपनियां

आईटी कंपनियां उम्मीदवारों के साथ पैकेजों की डील कर रही हैं। इस पैकेज में उनकी इंटरनेट मीडिया पर पोस्टें डालने के अलावा उनके पक्ष में वीडियोज क्रीएट करती हैं। उनके विरोधी उम्मीदवार की कमियां तलाश कर उनको उजागर करती हैं। इसके अलावा वॉयल कॉल के जरिए प्रत्याशियों की रिकॉर्डिंग करके टारगेट वोटरों के पास पहुंचाती हैं। वोटरों की लिस्टें इंटरनेट मीडिया पर मुहैया करा कर उम्मीदवार का काम आसान करती हैं।

आईटी एक्सपर्ट

आईटी कंपनीज द्वारा कई प्रकार के पैकेज बनाए जाते हैं। इसमें अलग अलग पैकेज का अलग अलग रेट होता है। आईटी कंपनीज द्वारा अपने क्लांइट के पक्ष में वट्सएप मैसेज, एसएमएस, आइवीआर, विरोधी उम्मीदवार के पक्ष में नेगेटिव ई कैंपेंन, अपने क्लांइट के पक्ष में पाजिटिव ई कैंपेंन, डाटा मैंटेन, सुपोर्टिंग पेज, आईडी मैंटेन, बैनर, लीफलेट, प्रोफाइल, फोटोशूट, वेबसाइट मैंटेंन जैसे काम किए जाते हैं। हम भी विभिन्न पार्टियों के क्लांइट्स का काम कर रहे हैं।

जसवंत कौशिक,आईटी एक्सपर्ट

Edited By: Jagran