जासं,बठिडा: कोरोना का संक्रमण रुकने का नाम नहीं ले रहा है। शनिवार को जिले में जहां 706 नए कोरोना संक्रमित मरीजे मिले, वहीं 17 लोगों की जान कोरोना के कारण गई। इसके साथ जिले में कोरोना से मरने वालों की संख्या 484 पर पहुंच गई है।

सेहत विभाग के अनुसार शनिवार को मिले कोरोना संक्रमित में ज्यादा तर मामले बठिडा सिटी के हैं, जोकि सेहत विभाग व जिला प्रशासन की तरफ से जगह-जगह नाके लगाकर किए जा रहे कोरोना टेस्टों से मिल रहे हैं। ऐसे में स्पष्ट है कि सड़कों पर घूम रहे ज्यादातर लोग कोरोना संक्रमण फैला रहे हैं, जोकि अपने साथ-साथ दूसरों के लिए खतरा बन रहे हैं। वहीं जिले में कुल कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 26591 पर पहुंच गई है, जबकि शनिवार को 449 मरीज स्वस्थ हुए हैं। जिसके साथ ही जिले में रिकवर हो चुके मरीजों की संख्या 19665 पर पहुंच गई है। वहीं जिले में एक्टिव मरीजों की संख्या 6442 पर पहुंच गई है, जिसमें 5652 मरीज होम आइसोलेट है, जबकि 697 मरीज अनट्रेस है। सेहत विभाग के अनुसार शनिवार तक कुल 2 लाख 48 हजार 385 लोगों के कोरोना टेस्ट किए जा चुके हैं। नाम का क‌र्फ्यू, सड़कों पर ट्रैफिक कोरोना के प्रकोप को रोकने के लिए राज्य सरकार की तरफ से बीते शुक्रवार शाम तीन बजे से वीकएंड शनिवार और रविवार को क‌र्फ्यू का आदेश जारी किया गया है। बठिडा जिला प्रशासन की तरफ से भी इन आदेशों को लागू करने के लिए बीते शुक्रवार को निर्देश जारी कर दिए गए थे, लेकिन शनिवार को सड़कों पर दौड़ रहे वाहनों से ऐसा बिल्कुल भी नहीं लग रहा था कि इस समय क‌र्फ्यू चल रहा है। सुबह से दोपहर तक सड़कों पर बड़ी गिनती में वाहन सड़कों पर दिखाई पड़े। कागजों में तो दिन भर क‌र्फ्यू रहा, लेकिन वास्तव में तस्वीर मिनी लाकडाउन वाली ही रही। हालांकि तमाम बाजार बंद रहे। इसके बावजूद सड़कों पर भीड़ रही।

जिला प्रशासन की तरफ से केवल इमरजेंसी सेवाओं में शामिल मेडिकल स्टोर और अस्पताल ही खुले रखने को कहा गया था। इसके बावजूद जहां रेलवे स्टेशन पर कुछ ढाबे खुले हुए दिखाई पड़े, वहीं सब्जी और फ्रूट की रेहड़ियां भी इधर-उधर घूमती दिखीं। चौक चौराहों पर पुलिस जरूर तैनात थी, लेकिन किसी को नहीं रोका गया। विभिन्न मोहल्लों की गलियों में युवक क्रिकेट खेलते हुए भी नजर आए।