हेमंत राजू, बरनाला : ग्रेवाल रिजोर्ट में रखे एक कार्यक्रम में पहुंच रहे शिक्षा मंत्री विजयइंद्र सिगला को बेरोजगार बीएड टेट पास अध्यापक यूनियन के विरोध का सामना करना पड़ा।

यूनियन के सदस्यों ने शिक्षा मंत्री के खिलाफ रोष प्रदर्शन करके नारेबाजी की। इस विरोध के कारण शिक्षा मंत्री विजयइंद्र सिगला को करीब 15 मिनट प्रदर्शनकारियों से 100 मीटर की दूरी पर ही अपने काफिले सहित रास्ता साफ होने का इंतजार करना पड़ा। डीएसपी सिटी राजेश छिब्बर ने पहुंचकर यूनियन के सदस्यों को समझाया व इसके बाद ही शिक्षा मंत्री विजयइंद्र सिगला कार्यक्रम में पहुंचे, परंतु बेरोजगार बीएड टेट पास अध्यापक यूनियन विजयइंद्र सिगला व सरकार के खिलाफ करते रहे। अध्यापक यूनियन के सदस्यों ने बताया कि उनको रोजगार देने की बजाय उन पर लाठियां बरसाई जा रही हैं व केस दर्ज किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस चुनाव से पहले रोजगार देने के दावे कर रही थी। जब कांग्रेस की सरकार बन गई तो रोजगार देने की बात ही बंद कर दी गई है। उन्होंने कहा कि उनको रोजगार दिया जाए ताकि वह बच्चों को पढ़ाकर देश के भविष्य को देश के विकास के लिए तैयार कर सकें।

डीएसपी सिटी राजेश कुमार छिब्बर ने बताया कि बेरोजगार अध्यापक यूनियन के जिन सदस्यों ने शिक्षा मंत्री का रास्ता रोकने का प्रयास किया था, उनकी हुई वीडियो ग्राफी में पहचान करके उन पर विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज किया जाएगा। शिक्षा मंत्री विजयइंद्र सिगला भड़क गए मीडिया पर

जैसे ही ग्रेवाल रिजोर्ट में आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए शिक्षा मंत्री विजयइंद्र पहुंचे तो मीडिया ने उनको घेरकर कुछ सवाल पूछने चाहे तो शिक्षा मंत्री ने मीडिया से कहा कि कार्यक्रम खत्म होने के बाद बात करेंगे। परंतु मीडिया कर्मियों ने कहा कि दो मिनट का ही सवाल जवाब है, तकरार होने लगी तो शिक्षा मंत्री विजयइंद्र सिगला मीडिया पर भड़क गए व उन्होंने कहा कि मुझे मीडिया से कोई बात नहीं करनी है। ऐसे घटनाक्रम से कुछ मीडिया कर्मी नाराज होकर वहां से चले गए तो करीब 20 मिनट बाद फिर से जन संपर्क विभाग ने मीडिया कर्मियों को फोन जाने लगे कि आ जाओ शिक्षा मंत्री विजयइंद्र सिगला ने प्रेस कान्फ्रेंस करनी है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!