जागरण संवाददाता, बरनाला

संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों को रद करवाने व एमएसपी की गारंटी देने का नया कानून बनाने की मांग को लेकर जिले में आठ विभिन्न जगहों पर चल रहे रोष धरने के तहत रेलवे स्टेशन बरनाला के बाहर लगाया धरना रविवार को 382वें दिन भी जारी रहा। सोमवार को किसान संगठन सुबह 10 बजे से शाम चार बजे तक रेलवे लाइनों पर धरना लगाकर रेल रोकेंगे।

किसान नेता बलवंत सिंह उप्पली, मेला सिंह कट्टू, चरणजीत कौर ,गुरजंट सिंह हमीदी,दर्शन सिंह उगोके, बूटा सिंह फरवाही, उजागर सिंह बीहला, जीत सिंह ठिकरीवाला,करनैल सिंह गांधी, गुरनाम सिंह ठिकरीवाला, बलविदर कौर, बाबू सिंह खुड्डी, जसपाल सिंह चीमा, बलवीर कौर करमगढ़, बलजीत कौर फरवाही, अमरजीत कौर, मंजीत राज, रणजीत सिंह कलाला ने कहा कि 18 दिवसीय राष्ट्रव्यापी ट्रेन स्टॉप कार्यक्रम पर चर्चा की व समय दिया गया। 'दो मिनट में किसानों को बेदखल' करने के लिए भड़काऊ और धमकी भरे बयान देने वाले केंद्रीय मंत्री के खिलाफ सरकार ने अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की है। इसलिए किसान मोर्चा पूर्व में घोषित निर्णय के अनुसार 18 अक्टूबर को सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक ट्रेनों को रोकने के लिए रेलवे लाइन पर धरने देंगे।

पंजाब में उर्वरकों और बीजों की कमी का मुद्दा उठाते नेताओं ने कहा कि रबी की फसल की बुवाई जोरों पर है, किसान धान की कटाई में लगे हैं और दूसरी तरफ खाद-बीज खरीदने के लिए जगह-जगह भटकना पड़ रहा है।

Edited By: Jagran