संवाद सहयोगी, मालेरकोटला (संगरूर) : बीएसएनएल एंड कांट्रेक्ट वर्कर यूनियन एटक यूनियन की भूख हड़ताल सोमवार को 10वें दिन में प्रवेश कर गई। यूनियन के वर्कर टेलीफोन एक्सचेंज में लगे 120 फीट उंचे टावर पर डटे हुए थे। तहसीलदार बादलदीन ने धरनाकारियों से बातचीत करके टावर से नीचे उतरने के लिए प्रेरित किया कितु धरनाकारी मांगों के हल तक टावर से न उतरने की बात पर अड़े रहे। बीएसएनएल एंड कांट्रेक्ट वर्कर यूनियन पंजाब के प्रांतयी प्रधान रणजीत सिंह चीमा ने बताया कि वर्करों को पिछले 9 माह के वेतन में केवल एक माह का वेतन दिया गया है, जिससे उनके घर का गुजारा नहीं हो सकता।

बच्चों को पढ़ाना व बिजली, पानी के बिल आदि अदा करने के लिए भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है व अब तो उन्हें दुकानदार घरेलू जरूरत का सामान भी उधार देने से कतराने लगे हैं। वह अपनी मुश्किलों के चलते कई बार अधिकारियों से गुहार लगा चुके हैं कितु उनकी कोई सुनवाई नहीं हुई। जिसके रोष में वर्करों को बार-बार रोष प्रदर्शन करने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। 15 अगस्त से तीन वर्कर तहसील प्रधान मेवा सिंह तक्खर कलां, हरजिदर सिंह छपार, सुखविदर सिंह ग्वारा एक्सचेंज में लगे टॉवर पर चढ़े हुए थे व लगातार चल रही भूख हड़ताल पर जगसीर सिंह चीमा व प्यारा सिंह भूरथला बैठे। उन्होंने कहा कि यदि जीएम ने उनकी मांगों की तरफ ध्यान न दिया तो वह रोष प्रदर्शन को ओर तेज करने को विवश होंगे। जिससे परिणाम की जिम्मेवारी विभाग के अधिकारियों की होगी। धरनाकारियों द्वारा अपनी मांगों का ज्ञापन भी तहसीलदार बादलदीन को दिया। जिस पर उन्होंने विश्वास दिलाया कि उनकी मांगों संबंधी विभाग के अधिकारियों से बातचीत की जा रही है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!