जागरण संवाददाता, अमृतसर : वॉयस आफ अमृतसर (वीओए) व शहर के विद्यार्थी संगठनों ने रविवार को कैंडल मार्च निकाला और हैदराबाद में दरिदगी का शिकार हुई महिला डॉक्टर को इंसाफ दिलाने व आरोपितों को कड़ी सजा देने के लिए आवाद बुलंद की।

वीओए की सदस्य डॉ. इंदू अरोड़ा व बीबीके डीएवी कॉलेज की विद्यार्थी कणिका गुप्ता ने बताया कि हैदराबाद में डॉक्टर के साथ हुई दिल दहलाने वाली घटना ने देश भर को दुखी किया है, दोषियों को कड़ी सजा मिलनी चाहिए। कैंडल मार्च में लोगों ने बढ़चढ़ कर भाग लिया और पीड़िता के लिए इंसाफ मांगा। उनका कहना था कि भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए सरकार विशेष प्रयास करे।

एक आरोपित को फांसी हो जाए, तो रुकेंगी घटनाएं वीओए की सदस्य डॉ. इंदू अरोड़ा का कहना है कि हैदराबाद में जो भी घटना हुई है वो समाज को शर्मसार करने वाली है। भविष्य में ऐसी घटना नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार 'बेटी पढ़ाओ- बेटी बचाओ' का नारा दे रही है। मां-बाप अपनी बेटियों को पढ़ा तो लेंगे, मगर इन बेटियों को बचाने के लिए सुरक्षा सरकार को ही मुहैया करवानी पड़ेगी।

उन्होंने कहा कि पिछले समय में कई मासूम बेटियों के साथ दरिदगी हुई है और सरकार मूकदर्शक बनकर तमाशा देख रही है। उनकी सरकार से अपील है कि नींद से जागे और कोई ऐसा कानून बनाए, जिससे मासूम बेटियों के साथ दरिदगी करने वालों को सरेआम फांसी पर लटकाया जाए। डा. अरोड़ा का कहना है कि समाज में पड़ी लिखी बेटियां अपने काम पर जाती हैं, जिनकी सुरक्षा के लिए सरकार कोई पुख्ता इंतजाम नहीं कर रही है, यह बहुत ही चिता का विषय है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!