जासं, अमृतसर: कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बीच नए मामलों के साथ-साथ मृतकों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। रोजाना औसत पांच से अधिक केस आ रहे हैं और मृतकों का औसत आंकड़ा 20 पहुंच गया है। वहीं एक तरफ संक्रमण बढ़ रहा है और जिले में टीकाकरण की रफ्तार मंद पड़ गई है। प्रदेश सरकार से वैक्सीन की लगातार आपूर्ति नहीं मिलना ही इसका कारण है। हालांकि जिले में दस हजार से अधिक लोगों का टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है मगर यहां तो 50 फीसद भी टारगेट नहीं हो रहा। सिविल अस्पताल में मंगलवार को टीकाकरण नहीं हुआ, क्योंकि यहां एक भी डोज नहीं थी। इसी प्रकार गुरुनानक देव अस्पताल में महज 200 लोगों को ही टीका लग सका। वैक्सीन की कमी के चलते जिले के 100 से अधिक सेंटरों में टीकाकरण नहीं हो सका।

सिविल अस्पताल में सुबह पहुंचे लोगों को सूचना दी गई कि आज वैक्सीन न होने की वजह से टीकाकरण नहीं होगा। हालांकि कुछ लोग ऐसे भी थे जो तीसरी बार चक्कर लगाते लगाते हुए टीका लगवाने आए थे, वे काफी खफा दिखे। सिविल में नहीं हुई तो लोग गुरुनानक देव अस्पताल की ओर दौड़े, पर यहां भी काफी लोग पहले से ही पहुंचे थे। अस्पताल में महज 200 डोज थी, जिसे लगवाने के लिए लोगों ने खासी मशक्कत की। सिविल अस्पताल में प्रतिदिन 500 लोगों को डोज लगाने का लक्ष्य है, लेकिन पूरी डोज नहीं मिल रही। यह स्थिति तब है जब लोग वैक्सीन लगवाने को तैयार हैं। अब तो 18 साल से अधिक आयु के लोग भी वैक्सीन लगवाने को बेताब दिख रहे हैं। हालांकि अब 45 साल से अधिक आयु के लोगों को भी वैक्सीन लगाने में डाक्टरों को भारी जद्दोजहद करनी पड़ रही है। मंगलवार को 3567 को वैक्सीन लगी, इनमें 48 श्रमिक

मंगलवार को जिले में 3567 लोगों को वैक्सीन लगी। इनमें 48 श्रमिक शामिल हैं। जिले के पांच सेंटरों में श्रमिकों के लिए टीकाकरण का प्रबंध किया गया है लेकिन अभी श्रमिकों की संख्या कम है। सिविल अस्पताल के एसएमओ डा. चंद्रमोहन का कहना है कि लोग लगातार आ रहे हैं, पर वैक्सीन की कमी खल रही है। सरकार जल्द ही वैक्सीन भेजेगी। इसके बाद लोगों को लगातार लगाई जाएगी। देर शाम पहुंचीं छह हजार डोज

मंगलवार शाम को चंडीगढ़ से छह हजार डोज अमृतसर पहुंची। इससे बुधवार को टीकाकरण रफ्तार पकड़ेगा। हालांकि जिले में प्रतिदिन 10 हजार लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य रखा है। स्वास्थ्य कर्मी टीका लगाने को तैयार हैं, पर पर्याप्त डोज तो मिले। रिलायंस ने खरीदी कोवैक्सीन

रिलायंस ने अपने कर्मचारियों को वैक्सीन लगवाने का क्रम शुरू कर दिया है। अमनदीप अस्पताल के साथ संपर्क कर रिलायंस ने टीकाकरण की शुरुआत कर दी है। रिलायंस ने वैक्सीन उत्पादक कंपनी से संपर्क कर वैक्सीन मंगवाई है। इसके अतिरिक्त अभी जिले के निजी अस्पतालों में पुन: वैक्सीनेशन का क्रम शुरू नहीं हो पाया है। निजी अस्पतालों द्वारा सरकारी गाइडलाइन के अनुसार अभी निर्माता कंपनियों से वैक्सीन नहीं खरीदी है। जीएनडीएच में एमआरआइ मशीन बंद

गुरुनानक देव अस्पताल में अब एमआरआई मशीन बंद हो गई है। तकनीकी खामी की वजह से यह मशीन बीते शुक्रवार से बंद है। इससे मरीजों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।