जागरण संवाददाता, अमृतसर: जिला कचहरी परिसर स्थित तहसील कांप्लेक्स में एक महिला ने खूब हंगामा किया। महिला से एक टाइप राइटर महिला ने शेडयूल कास्ट (जाति प्रमाणपत्र) सर्टिफिकेट बनाने के नाम पर दो हजार रुपये ले लिए। पैसे लेने के बावजूद महिला का काम नहीं हो रहा था। इससे वह काफी परेशान थी। कई बार उसने कचहरी के चक्कर भी लगाए, लेकिन वह न तो उसका काम करवा रही थी और न ही उसके पैसे लौटा रही थी।

टाइप राइटर से दुखी महिला वीरवार को तहसीलदार मनजीत सिंह के पास इसकी शिकायत लेकर पहुंच गई। तहसीलदार ने अपने गनमैन को साथ भेजकर टाइप राइटर को दफ्तर में बुलवाया और उस पर कार्रवाई करने की बात की तो टाइप राइटर ने महिला के 1500 रुपये लौटा दिए। उसने महिला से माफी भी मांगी। तहसीलदार ने उस महिला का शेडयूल कास्ट सर्टिफिकेट भी बनवाया। जिला कचहरी परिसर स्थित तहसील दफ्तर में पहुंची हाउसिग बोर्ड कालोनी निवासी स्वाति ने बताया कि उसने शेडयूल कास्ट सर्टिफिकेट बनवाना था। वह पिछले कई दिनों से यहां पर चक्कर लगा रही थी। इसी दौरान कचहरी में टाइप राइटर का काम करने वाली एक महिला ने उसे अपने झांसे में फंसाया औक कहा कि वह उसका काम करवा देगी। इसके बदले में उससे दो हजार रुपये ले लिए। महिला ने पैसे देने के बाद उससे काम करने के लिए कहा तो उसने कुछ नहीं किया। सख्ती से पूछा तो 1500 रुपये लौटा दिए

तहसीलदार ने उस टाइप राइटर महिला को अपने पास बुलवाया। पहले उससे पैसे लेने बाबत पूछा तो उसने इन्कार कर दिया। जब सख्ती से पूछताछ की तो उसने माना कि उसने उनसे पैसे लिए हैं और उसने 1500 रुपये महिला को पैसे लौटा दिए। पीड़ित महिला ने तहसीलदार को कहा कि वह कोई कार्रवाई नहीं करवाना चाहती। उन्हें उसके पैसे वापस मिल गए हैं। तहसीलदार मनजीत सिंह ने उसका शेडयूल कास्ट सर्टिफिकेट भी बनवा दिया। महिला ने उनका आभार जताया।

Edited By: Jagran