जासं, अमृतसर : रेलवे स्टेशन के सामने स्थित पुराने सिचाई विभाग के दफ्तर में कंस्ट्रक्शन के दौरान काटे जाने वाले वृक्षों को वहां से शिफ्ट किया जाएगा। उन्हें नए बनाए गए लघु सचिवालय के अलावा अलग-अलग स्थानों पर शिफ्ट करने के निर्देश दिए गए है। डिप्टी कमिश्नर गुरप्रीत सिंह खैहरा ने इस बाबत लैंडस्केप माहिर डा. जीएस बिलगा को रणनीति तैयार करने के लिए कहा है।

उन्होंने कहा कि इसके लिए उन्हें हर तरह की सहायता देने के लिए भी तैयार है। इसके अलावा उन्होंने लघु सचिवालय में हवा की शुद्धता दर्शाने वाला साइन बोर्ड लगाने की भी हिदायत की है। यह निर्देश उन्होंने एनवायरनमेंट कमेटी के सदस्यों के साथ बैठक के दौरान दिए है। उन्होंने कहा कि चाहे यह सूचना आजकल हर एक के मोबाइल फोन में मिल सकती है, लेकिन अन्य कामों में व्यस्त होने के कारण इस महत्वपूर्ण विषय को नजरअंदाज कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि लघु सचिवालय में ऐसी जगह पर बड़ा साइन बोर्ड लगाया जाए, जहां से सभी को यह बोर्ड दिखे।

खैहरा ने शहर में लगे पुराने वृक्षों का डाटा तैयार करने के लिए भी कहा है। उन्होंने कहा कि शहर में बड़ी संख्या में बोहड़ और पीपल जैसे पवित्र वृक्ष है, उनका डाटा तैयार किया जाए, ताकि अगर कोई उन्हें काटने की कोशिश करता है तो उनके ध्यान में आ सके। उन वृक्षों के पास चेतावनी के बोर्ड आदि लगाए जाएंगे। इसके साथ ही कमेटी सदस्यों ने उन्हें सुझाव दिए कि स्कूल, कालेजों के मैदानों के अलावा फोकल प्वाइंट व पंजाब स्टेट इंडस्ट्री आदि की खाली पड़ी जगहों पर छोटे जंगल तैयार किए जाएं। डिप्टी कमिश्नर खैहरा ने लैंडस्केप माहिर डा. जीएस बिलगा को लघु सचिवालय में बढि़या लैंडस्केप तैयार करने के निर्देश भी दिए है। उन्होंने कमेटी सदस्यों को कहा कि वह अपनी टीम में ऐसे लोगों को शामिल करे, जोकि केवल सलाह या शिकायतों तक ही सीमित न रहे, बल्कि वातावरण की देखभाल के लिए अपना समय भी दे। इस अवसर पर जिला सामाजिक सुरक्षा अधिकारी असीसइंद्र सिंह, इंजीनियर डीएस कोहली, आरडी शर्मा, दीपक बब्बर, एसडीओ अमृतपाल सिंह, पंजाब ब्राह्मण भलाई बोर्ड से किशन कुमार मौजूद थे।

Edited By: Jagran