विपिन कुमार राणा, अमृतसर : कृषि सुधार कानूनों को लेकर पूर्व कैबिनेट मंत्री अनिल जोशी द्वारा प्रदेश लीडरशिप पर खडे़ किए गए सवालों के बाद जोशी बनाम भाजपा जंग छिड़ी हुई है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अश्वनी शर्मा और प्रदेश महासचिव व प्रभारी जीवन गुप्ता की गुरुनगरी के फेर के बाद तो माहौल और तल्ख हो गया है। प्रदेश लीडरशिप की थापड़ी के बाद भाजपा जिला प्रधान ही नहीं शहर के पदाधिकारी खुलेआम जोशी की बयानबाजी को गलत ठहराने के साथ उन्हें घेरने में भी कोई कसर नहीं छोड़ रहे।

भाजपा जिला प्रधान सुरेश महाजन ने तो कटाक्ष करते हुए यहां तक कहा है कि जोशी राजनीतिक सिक्योरिटी ढूंढ रहे हैं और सियासी जमीन खिसकती देखकर ऐसी बयानबाजी कर रहे हैं। यह उन्हें शोभा नहीं देता। वह जो यह कह रहे हैं कि उनकी कोई सुनवाई नहीं कर रहा, बिल्कुल गलत है। वह हमारे पूर्व कैबिनेट मंत्री हैं और दिल्ली में दर्जनों आला नेताओं को दीपावली पर शाल व गिफ्ट देकर आते रहे हैं। इनकी ऊपर तक पूरी पहुंच भी है और सुनवाई भी। अगर उन्हें दीपावली गिफ्ट देने से रोक नहीं है तो उन्हें किसी ने सुनने से भी मना नहीं किया। उन्होंने कहा कि भाजपा एक लोकतांत्रिक पार्टी है और इसमें हर किसी को अपनी बात रखने का पूरा अधिकार है। हम भी किसानों की बात पार्टी प्लेटफार्म पर लगातार रखते आ रहे हैं, पर जोशी ने पार्टी प्लेटफार्म से बाहर जाकर मर्यादा भंग की है। क्या जोशी नया प्लेटफार्म ढूंढ रहे हैं, इस पर महाजन ने कहा कि ऐसा नहीं है। वह पार्टी में ही खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं और उन्हें लगता है कि 2022 के विधानसभा चुनाव में पार्टी उन्हें मान सम्मान नहीं देगी। बस इसी चक्कर में वह ऐसा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी में लोग चार-चार पीढि़यों से लगे हुए हैं, लेकिन जब किसी नए को मौका मिलता है तो उन्होंने कभी गिला नहीं किया। जोशी को भी बहुत कम समय में पार्टी ने बहुत ज्यादा मान सम्मान दिया। ऐसे में उन्हें भी इन हालात में पार्टी का साथ देना चाहिए। जोशी बनाम भाजपाइयों में खुलकर बयानबाजी

जोशी बनाम भाजपाइयों में 'मैं जोशी के साथ' और 'मैं भारतीय जनता पार्टी के साथ' की इंटरनेट मीडिया पर शुरू हुई लड़ाई अब खुलकर बयानबाजी तक जा पहुंची है। जोशी को लेकर प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य पप्पू महाजन, भाजयुमो जिला प्रधान गौतम अरोड़ा जहां खुलकर शाब्दिक तीर दाग रहे है और उनके वीडियो वायरल हो रहे हैं, वहीं जोशी के समर्थन में भाजयुमो प्रदेश सचिव विक्की ऐरी ने मोर्चा संभालते हुए उन तमाम नेताओं की पोल खोली, जो पहले जोशी के साथ थे और बाद में हित पूरा होने के बाद पासा पलट गए। आधार किसका खिसका, यह तो समय बताएगा : जोशी

उधर, सुरेश महाजन की बात पर पूर्व कैबिनेट मंत्री अनिल जोशी ने कहा कि उन्होंने वह न तो कभी पार्टी के खिलाफ गए हैं और न ही कोई गलत काम किया है। बात किसानों के मुददों के साथ-साथ हमारी भाईचारक सांझ की भी है। हमारी प्राथमिकता इस सांझ को आग से बचाने की है और राजनीति हमारे लिए बाद में है। जो लोग मेरे खिलाफ बयानबाजी कर रहे हैं मेरे चुनाव में उन्होंने विरोधियों से मिलकर क्या-क्या नहीं किया, वह किसी से छिपा हुआ नहीं है। तब इन लोगों ने भीतरघात करते हुए मेरा और पार्टी का नुकसान किया और अब यह खुलकर बोलने लगे और इसकी असलीयत सामने आ गई है। मुझे चुनाव में हरवाने के बाद इन्हीं लोगों ने साढे़ चार साल तक मेरे साथ उपेक्षा की राजनीति की। पार्टी अगर इन्हीं चीजों को ठीक कर ले तो अगले चुनाव के लिए वही काफी होगा।

Edited By: Jagran