जागरण संवाददाता, अमृतसर : कैनरा बैंक के एजीएम अरविद कुमार के सोमवार से लापता बेटे रोहन (17) का शव मंगलवार सुबह ब्यास दरिया से बरामद हुआ। रोहन सोमवार सुबह घर से नाराज होकर एक्टिवा पर चला गया था। बताया जा रहा है कि रोहन के ज्वाइंट एंट्रेंस टेस्ट (जेईटी) में नंबर कम आए थे, जिसके चलते पिता ने उसे डांट लगाई थी। ब्यास थाने की पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव वारिसों के सुपुर्द कर दिया है।

जानकारी के मुताबिक, सिविल लाइन थानांतर्गत पड़ती महिद्रा कालोनी निवासी अरविद कुमार कैनरा बैंक में एजीएम हैं। वह अपनी पत्नी और इकलौते बेटे रोहन के साथ पिछले कुछ सालों से अमृतसर में रह रहे हैं। रोहन ने डीएवी स्कूल में 12वीं तक की पढ़ाई की है। आर्थिक रूप से समृद्ध परिवार होने के नाते अरविद चाहते थे कि रोहन भविष्य में उनसे भी आगे बढ़े। इसके चलते रोहन पर पढ़ाई को लेकर दबाव बढ़ता जा रहा था। पिता के कहने पर रोहन ने जेईटी की परीक्षा दी थी, लेकिन वह परिवार की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाया। कम नंबर आने पर माता-पिता रोहन से नाराज हो गए। इसके चलते वह कुछ दिन से रोहन काफी परेशान हो गया था। सोमवार सुबह कम नंबरों को लेकर घर में कुछ बात हुई तो वह गुस्से में अपनी एक्टिवा लेकर निकल गया। ब्यास दरिया किनारे एक्टिवा पार्क की और दरिया में छलांग लगी दी।

इधर देर शाम तक बेटे के घर न पहुंचने पर परेशान परिवार पुलिस के साथ उसे तलाशने में जुटा रहा। देर रात ब्यास थाने की पुलिस के प्रभारी इंस्पेक्टर अमरीक सिंह को सूचना मिली कि पुराने पुल पर एक एक्टिवा पड़ी हुई है। पुलिस को संदेह हुआ जांच शुरू हो गई। इस बीच अमृतसर के पुलिस कंट्रोल रूम से जानकारी सीमावर्ती जिले तरनतारन, अमृतसर देहाती के साथ साझा की जा रही थी कि रोहन अपनी एक्टिवा के साथ लापता है। एक्टिवा का नंबर मिलाया गया तो पुलिस को सारा मामला साफ हो गया। ब्यास थाने की पुलिस ने मंगलवार की सुबह नौ बजे शव को दरिया से निकाल लिया।

मां बोली-मेरा बेटा आत्महत्या नहीं कर सकता

मंगलवार दोपहर जब अरविद और उनकी पत्नी को पुलिस की तरफ से सूचना मिली कि रोहन ने नहर में कूदकर जान दे दी है तो उन्हें यकीन नहीं हो रहा था। पीड़ित मां रात तक यही कह रही थी कि पुलिस से कहो कि उनके बेटे की तलाश करे। रोहन किसी भी कीमत पर आत्महत्या नहीं कर सकता।

सुबह 10:25 बजे ही बंद हो गई थी रोहन की घड़ी

इंस्पेक्टर अमरीक सिंह ने बताया कि रोहन सोमवार सुबह ही ब्यास नदी पर बने पुराने पुल पर पहुंच गया था। उसने मौका पाकर 10.25 पर पानी में छलांग लगा दी क्योंकि रोहन की घड़ी पूरे 10.25 बजे पानी में भीग जाने से बंद हो गई थी। देर रात जब एक्टिवा पुल पर पड़ी रही तो किसी राहगीर ने पुलिस को इस बारे में जानकारी दी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!