कमल कोहली/अमनदीप, अमृतसर: महानगर का विख्यात बाजार गुरु बाजार जहां पर रोजाना करोड़ों रुपये का व्यापार होता था। परंतु अब यह बाजार भी पिछले करीब डेढ़ साल से मंदी की मार झेल रहा है। दूसरा इस बाजार में मूलभूत सुविधाओं की भी कमी है। सड़क बनाने का काम तो शुरू हुआ, परंतु वह बीच में ही छोड़ दिया गया है, जिस कारण कई दुकानदारों को परेशानी आ रही है। इससे वहां पर खरीदारी करने के लिए आने वाले लोगों को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। वहीं ई-रिक्शा के कारण ट्रैफिक समस्या बनी हुई है। इसलिए इस रिक्शा को वन-वे करके चलाना चाहिए ताकि बाजार में ट्रैफिक सुचारू रूप से चल सके। इतिहास : गुरुओं की बसाई नगरी के कारण पड़ा बाजार का नाम

श्री हरिमंदिर साहिब के पास गुरु बाजार बना हुआ है। यहां पर सोने के आभूषण और कपड़ों का व्यापार होता है। कहा जाता है कि इस बाजार को गुरु बाजार इसलिए कहा जाता है क्योंकि यह नगरी गुरुओं की ओर से बसाई हुई है। इसलिए इस बाजार को गुरु बाजार कहा जाता है। यहां पर कभी करोड़ों रुपये का आभूषण का व्यापार होता था, लेकिन अब कई दुकानें यहां से बाहरी क्षेत्रों में चली गई हैं। बाजार में मूलभूत सुविधाओं की कमी है। सड़क का कार्य अधूरा ही छोड़ दिया गया है। इस कारण यहां पर टूटी सड़क होने से एक्सीडेंट होने का खतरा रहता है। कई लोग घायल भी हो चुके हैं। इसे पूरा करवाने के लिए कई बार प्रशासन को भी अवगत करा चुके हैं। दूसरा इस बाजार में भी कोरोना महामारी के कारण व्यापार में काफी कमी आई है।

विनय मेहरा, प्रधान गुरु बाजार दुकानदार एसोसिएशन गुरु बाजार में कई समस्याएं हैं। सड़कें खस्ताहाल हैं। अधूरा काम ही बीच में छोड़ दिया गया है। ई-रिक्शों के कारण भी ट्रैफिक की समस्या बनी हुई है। ई-रिक्शा के लिए प्रशासन को इस बाजार से वन-वे ट्रैफिक करना चाहिए।

सतवीर सिंह, दुकानदार बाजार में बिजली की तारों का जाल बिछा हुआ है। सड़क टूटी हुई हैं। कारोबार ठप पड़ा है। बाजार में राहगीरों की भीड़ होने के कारण ग्राहक नहीं आता है। दुकानदारों के खर्चे निकलना मुश्किल हो चुका है।

सुनील कपूर, दुकानदार नगर निगम को सड़क का काम पूरा करवाना चाहिए। उसे दुकानदारों की सुविधा का ध्यान रखना चाहिए ताकि वहां पर हादसे न हों। वहीं ट्रैफिक की समस्या को ठीक करना चाहिए।

अनिल मेहरा, दुकानदार यदि हालात ऐसे ही रहे तो कारोबार करना मुश्किल हो जाएगा। सरकार को मूलभूत सुविधाओं की तरफ भी ध्यान देना चाहिए। सरकार ने किसी तरह की कोई मदद नहीं की है। सरकार को व्यापारियों को राहत पैकेज देना चाहिए।

-राजकुमार, दुकानदार इस समय बाजार में सिर्फ 50 प्रतिशत ही कारोबार है। इस समय व्यापार का सीजन है। परंतु काम नहीं चल रहे हैं। बाजार में जो समस्याएं हैं, प्रशासन को उसे तुरंत हल करना चाहिए।

किशन कुमार, दुकानदार बाजार में ई रिक्शा के कारण काफी समस्या पैदा हो रही है। दोनों तरफ ई रिक्शा आने से ट्रैफिक जाम रहता है। यह बाजार व्यापार की दृष्टि से नंबर वन था। परंतु मूलभूत सुविधाओं की कमी के कारण पिछड़ गया है।

अरुण मेहरा, दुकानदार सड़क टूटी हुई है। निगम का इस तरफ कोई ध्यान नहीं। रोजाना दुर्घटना होती है। कई समय तक जाम लगा रहता है। दुकानदार को कार्य करने में समस्या पैदा होती है। कारोबार बिल्कुल नहीं है। यदि हालात ऐसे ही रहे तो खर्चे निकलना भी मुश्किल हो जाएगा।

जरनैल सिंह, दुकानदार बिजली की तारों के जाल को ठीक करना चाहिए। इससे आग लगने का भय रहता है। सड़क का निर्माण भी पूरा करवाना चाहिए। ट्रैफिक समस्या का समाधान निकालना चाहिए। सरकार को व्यापारियों की मदद करनी चाहिए।

विशाल मेहरा, दुकानदार कोविड-19 कारण कारोबार 50 प्रतिशत रह गया है। खर्चे निकलना मुश्किल हो गया है। सरकार ने व्यापारियों की मदद बिल्कुल नहीं की है। दुकानदार खुद खर्चे निकाल रहे हैं तथा सरकार से कोई भी आशा नहीं है।

नरेंद्र मेहरा, दुकानदार

Edited By: Jagran