जागरण संवाददाता, अमृतसर

एसजीपीसी के सचिव मंजीत सिंह चीमा बाठ ने कहा कि गुरुद्वारों में लंगर पकाने को लेकर तो लकड़ी व अन्य सामग्री की सपलाई होती है। वह पूरी तरह नियमों के अनुसार होती है। सारी सामग्री की खरीद के लिए टेंडर मांगे जाते हैं। अगर किसी तरह की सामग्री में टेंडर नियमों का उल्लंघन पाया जाता है तो जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई भी होगी। एसजीपीसी में हर काम पूरी पारदर्शिता के साथ होता है।

बाठ ने बताया कि एसजीपीसी की ओर से श्री हरिमंदिर साहिब अमृतसर और गुरुद्वारा बीड़ बाबा बुड्ढा साहिब के लिए जो लकड़ी लंगर तैयार करने के लिए मंगवाई गई है वह टेंडर की शर्तों के अनुसार ही है। कुछ लोगों ने इस पर एतराज जताया है, जिसको लेकर जांच करवाई जाएगी। इसकी जांच एसजीपीसी के फ्लाइंग विभाग को सौंपी गई है। अगर इसमें किसी तरह की लापरवाही सामने आती है तो आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई होगी।

Posted By: Jagran