नवीन राजपूत, अमृतसर: जनाब.. कल दा बुखार ए, ते छिक्कां वी आ रहीयां ने, मैं क्वारंटाइन होणा चाहुंदा हां। मैनूं मंजूरी दित्ती जावे। इसी तरह के बहानों के साथ पंजाब पुलिस के मुलाजिम छुट्टी के लिए अर्जियां दायर करने लगे हैं। कोरोना संक्रमण से जहां हालात खराब हो रहे हैं, वहीं पिछले एक साल से 178 से ज्यादा पुलिस कर्मी संक्रमण से बच नहीं पाए। अब कोरोना की दूसरी लहर के प्रकोप को देखते हुए पुलिस मुलाजिमों में भी इसका खौफ बढ़ना शुरू हो चुका है। फील्ड में ड्यूटी करने वाले चाह रहे हैं कि उन्हें पब्लिक डीलिग वाले स्थानों से बदल दिया जाए। इसके साथ ही कई छुट्टियों के लिए आवेदन कर रहे हैं।

पुलिस विभाग के मुताबिक पिछले एक सप्ताह से सब इंस्पेक्टर से लेकर कांस्टेबल और पंजाब होमगार्ड के 158 जवानों ने छुट्टी के लिए अप्लाई किया है। ज्यादातर आवेदन को पेंडिग रखा गया है जबकि कुछ की अर्जी पर गौर करते हुए उन्हें छुट्टी पर भेजा गया है। पता चला है कि अर्जियों पर गौर करने से साफ हुआ है कि ज्यादातर मुलाजिम कोरोना के डर से छुट्टी पर जाना चाहते हैं। यह बताए जा रहे छुट्टी के कारण

- रिश्तेदार कोरोना पाजिटिव निकले हैं, अपने परिवार का टेस्ट करवाना है।

- कल का बुखार है, मैंने क्वारंटाइन होना है।

- सरवाइकल से पीड़ित हूं और डाक्टर ने बेड रेस्ट बताई है।

- इम्यूनिटी बूस्टर लगवाया है, बाजू दर्द हो रही है। पुरानी छुट्टियां भी खंगाल रहा विभाग

पता चला है कि जिन मुलाजिमों ने अब छुट्टी को लेकर अर्जियां दायर की हैं, उनमें से कुछ ने पिछले साल भी छुट्टी ली थी। अब विभाग छुट्टी करने वाले पुराने मुलाजिमों का खाका भी खंगाल रहा है। पिछले साल छुट्टी ले चुके मुलाजिमों की अर्जियां रद किए जाने की बात भी सामने आई है। बेड रेस्ट की लिखवा रहे सलाह

पता चला है कि कुछ मुलाजिमों ने छुट्टी के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगाना शुरू कर दिया है। कुछ ने मामूली बीमारी का बहाना बनाकर डाक्टर से स्लिप पर बेड रेस्ट की सलाह लिखवाई है। इसके साथ ही 40 से ज्यादा माइक्रो कंटेनमेंट जोन में ड्यूटी करने वाले मुलाजिमों ने भी वहां से तैनाती बदलवाने को लेकर जुगाड़ लगाना शुरू कर दिया है। कोरोना से लड़ने के लिए सक्षम है फोर्स: सीपी

सीपी सुखचैन सिंह गिल ने बताया कि कोरोना वायरस के खतरे से बचाव के लिए पुलिस फोर्स सक्षम है। प्रत्येक परिस्थितियों में वह अपने जवानों के साथ खड़े हैं। अर्जियों पर गौर किया जा रहा है। बीमार और जरूरमंद को छुट्टी भी दी जाएगी।